स्कूलों ने बरती लापरवाही तो स्वास्थ्य विभाग करवायेगा मुकदमा दर्ज
स्कूलों ने बरती लापरवाही तो स्वास्थ्य विभाग करवायेगा मुकदमा दर्ज
6 अगस्त, 
अंबाला छावनी (जयबीर राणा थंबड़) कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से सतर्क होता नजर आ रहा हैं। इसको लेकर विशेष कदम भी उठाए जा रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से प्रदेशभर में बच्चों की कक्षाएं लगाने का कार्य भी जारी हैं। इसको लेकर आज स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से चौकस हैं।
सिविल सर्जन अंबाला डा. कुलदीप ने स्कूल संचालकों को भी चेतावनी देते हुए कहा कि यदि कहीं पर भी स्कूल की और से कोई ढील दिखाई दी तो हम स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करवाएगें। उन्होंने कहा कि अंबाला में 24 वेंटिलेटर उपलब्ध है अंबाला शहर व छावनी में कई कोविड वार्ड बनाए गए हैं।
सीएमओ ने बताया कि यदि जरूरत पड़ती है तो मुलाना के सरकारी अस्पताल को हम कोविड वार्ड में तब्दील कर देंगे। यहां पर भी 50 बेड का भी  इंतजाम हैं। उन्होने कहा कि स्कूल प्रबंधन का भी कर्तव्य बनता है कि वह ओक्सीमीटर, थर्मल-स्केनर, सेनिटाइजर आदि बच्चो के लिए उपलब्ध करवाएं। उन्होंने बताया कि स्कूलों में सोशल डिस्टेंस का पालन किया जाना चाहिए। हाल ही में सीबीएसई के रिजल्ट के बाद 2-3 स्कूलों में देखा गया कि वहां पर सामाजिक दूरी का पालन नहीं किया जा रहा था। न ही वहां बच्चों ने मास्क लगाया था।
ऐसे में अभिभावकों व स्कूल प्रबंधन को चाहिए कि वह बच्चों को मास्क लगाने के लिए कहे व सामाजिक दुरी का पालन करने का भी निर्देश दें। क्योंकि कोरोना अभी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ। उन्होने यह भी बताया कि कोरोना को लेकर हमारी जंग जारी हैं और जिले में टीकाकरण का कार्य भी जोरो पर किया जा रहा हैं। हमारी टीमें विभिन्न क्षेत्रों में जाकर टीके लगा रही हैं।
Popular posts
कारखानों ,वेयरहाउस की छत के ऊपर गोल-गोल क्या घूमता रहता है
चित्र
शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में व्याख्यानमाला का आयोजन का शुभारंभ किया गया वाणिज्य के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं डॉ.ओ.एन.चौबे
पोटाची खळगी भरण्यासाठी रेल्वे गाड्यांमध्ये खेळणी विकणाऱ्या अथवा गायन, संगीत कला सादर करणाऱ्या वांगणी येथील सुमारे ४५० अंध बांधवांसोबत कार्य सम्राट सांसद डॉ शिंदे ने साजरी केली दिवाळी
चित्र
अवैध उत्खनन के विरुद्ध जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई,
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता
चित्र