35714 हेक्टेयर में सिंचाई के लिए जलसंसाधन विभाग आज से छोड़ेगा नहरों में पानी

 

35714 हेक्टेयर में सिंचाई के लिए जलसंसाधन विभाग आज से छोड़ेगा नहरों में पानी
किसान पानी की उपलब्धता के लिए एसडीओ या उपयंत्री से कर सकते है संपर्क


खरगौन | 
     जलसंसाधन विभाग अपने 65 तालाबों से रबी फसलों की सिंचाई के लिए आज गुरुवार से नहरों में पानी छोड़ेगा। जलसंसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री पीके ब्राम्हणे ने जानकारी देते हुए बताया कि 21 नवम्बर से 24 नवम्बर तक नहरों के परीक्षण के लिए पानी छोड़ा गया था। अब गुरुवार से सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जा रहा है। जिले में कुल 155 तालाब है जिनमें से 90 तालाबों पर निषेधाज्ञा लागू की गई है। बाकी के 65 तालाबो से सिंचाई की जा सकेगी। इन 65 तालाबों की 62 मुख्य और 50 लघु नहरों से कुल 632 किमी. की नहरों से 23626 किसानों को पानी दिया जाएगा। इस वर्ष रबी सिंचाई के लिए कुल 35714 हेक्टेयर रकबे में जल संसाधन विभाग पानी उपलब्ध कराएगा। जबकि गत वर्ष कुल 55372 हेक्टेयर रकबे में सिंचाई तालाबांे से की गई थी। देजला देवाड़ा परियोजना की नहरों में पानी बहाव या किसी तरह की समस्या के निराकरण के लिए विभागीय एसडीओ के मो. न. 9009726999, सिनखेड़ा, कोठा और उमरखली के उपयंत्री को 7898253354, बरुड और भगवानपुरा के उपयंत्री को 9977526897 तथा मोहना व देवली के उपयंत्री को 9993208913 पर सम्पर्क कर सकते है।

किसान बुवाई से पहले यह जरूर करें
   कार्यपालन यंत्री श्री ब्राम्हणे ने कहा कि इस वर्ष पानी सीमित मात्रा में है। इसलिए किसानों से अनुरोध है कि संबंधित तालाबों के उपयंत्रियों से फसल बुवाई से पहले संपर्क कर ले। ऐसा न हो कि अपने पूरे खेत मे गेंहू की बुवाई कर ले और फिर चार या तीन पानी की आवश्यकता हो। वहीं संबंधित तालाब से केवल 2 पानी छोड़ा जाना है। ऐसी स्थिति निर्मित न हो इसलिए किसान ये कदम भी उठा सकते है।

न्यूज़ एसीपी नेटवर्क पर बलदेव चौरे की खास खबर
Popular posts
कारखानों ,वेयरहाउस की छत के ऊपर गोल-गोल क्या घूमता रहता है
चित्र
शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में व्याख्यानमाला का आयोजन का शुभारंभ किया गया वाणिज्य के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं डॉ.ओ.एन.चौबे
पोटाची खळगी भरण्यासाठी रेल्वे गाड्यांमध्ये खेळणी विकणाऱ्या अथवा गायन, संगीत कला सादर करणाऱ्या वांगणी येथील सुमारे ४५० अंध बांधवांसोबत कार्य सम्राट सांसद डॉ शिंदे ने साजरी केली दिवाळी
चित्र
अवैध उत्खनन के विरुद्ध जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई,
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता
चित्र