कौशाम्बी दौरे पर पहुंँचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किसान आंदोलन को बताया चुनाव आंदोलन
कौशाम्बी की खबर

 कौशाम्बी दौरे पर पहुंँचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किसान आंदोलन को बताया चुनाव आंदोलन, कहा, ये किसान पंचायत नहीं चुनाव पंचायत है
- एक दिवशीय भ्रमण पर सूबे के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य अपने गृह जनपद कौशाम्बी में माँ शीतला अतिथि गृह संयारा पहुंचे जहाँ पर वो अपने पदाधिकारियों समेत जिले के पुलिस प्रशासन से लेकर विकास से संबन्धित आलाधिकारियों के साथ बैठक कर उन्होंने कहा की *भाजपा सरकार की प्रथमिकता है की जो गरीबी कल्याण के मुद्दे है , किसान कल्याण के मुद्दे है और विकास के मुद्दे हैं उसमें कोई कमी न रह जाए उसको प्रथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश भी दिया गया है।
 अपने गृह जनपद कौशाम्बी के दौरे पर पहुँचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अपने कार्यकर्ताओं से 2022  के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुड़ जाने का आवाह्न भी किया और विपक्ष पर निशाना साधते हुए दावा किया की  2022 में सपा, बसपा, कांग्रेस वा अन्य पार्टियां एक साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगी तब भी जनपद के तीनों सीट सहित प्रदेश में 300 से ज्यादा सीट लाकर भाजपा अपनी सरकार बनाएगी। 2014 - 2017 और 2019 की तरह 2022 और 2024 में भी भाजपा की ही सरकार बनेगी और प्रदेश को विकास के नए कीर्तिमान की ओर ले जाने का कार्य करेगी।
 बतादें की सूबे के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने ये भी कहा है की सरकार के माध्यम से गरीब और किसानों का शोषण नहीं होने पाएगा बल्कि सेवा करेंगे
किसानों के हित में केंद्र की मोदी एवं प्रदेश की योगी सरकार ने हमेशा काम किया हैं।और शाहीन बाग की तरह तमाम मुद्दे भी देखने को मिलेंगे किसानों के आंदोलन पर डिप्टी सीएम ने कहा की ये किसानों का आंदोलन नहीं हैं बल्कि ये 2022 के आगामी विधानसभा चुनाव का आंदोलन है किसान का आंदोलन तो सभी मुख्य विपक्षी दल की साजिश है।

 यूपी स्टेट से मिडिया प्रभारी पवन मिश्रा की रिपोर्ट