कोरोना काल में अकाल मृत्यु से मरने वाले लोगों की आत्मशांति के लिए 1 जुलाई से होगी संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा,
कोरोना काल में अकाल मृत्यु से मरने वाले लोगों  की आत्मशांति के लिए 1 जुलाई से होगी संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा,
कन्नोद।असमय ही मरने वालों का कल्या ण
(पूज्य भागवताचार्य श्री रसिकानंदन जी महाराज की अध्यक्षता में होगा आयोजन)....
सभी देशवासियों से, शहर के प्रत्येक घरों से, महाराज जी ने सिर्फ एक ही सहयोग की अपेक्षा की है, कि वह सब 1 जुलाई से 7 जुलाई तक होने वाली श्रीमद्भागवत कथा में अपना सहयोग कुछ इस तरह दे सकते हैं, कि जब तक 1 जुलाई से लेकर 7 जुलाई तक यह कथा चले, तब तक  प्रत्येक घरों से हर व्यक्ति कोरोना काल में असमय ही मरने वालों के निमित्त गौ माता को भोजन कराए ,जिससे यह कथा सफल हो सके ,और उन सभी आत्माओं का कल्याण हो सके , आगे महाराज श्री का कहना है लोगों का यह सहयोग ही  हमारे लिए बहुत बड़ा सहयोग होगा, कई लोगों के मन में यह प्रश्न जरूर उठेगा कि इस भागवत कथा से क्या होगा, तो उन लोगों के लिए महाराज जी का कहना है इस संसार में भागवत कथा ही है जो असमय मरने वालों का कल्याण कर सकती है आप सभी ने देखा होगा किस तरह कोरोना से मरने वाले लोगों को बिना अंतिम क्रिया के ही धरती में दफना दिया गया इसलिए जिन लोगों  का क्रिया क्रम सही नहीं हुआ उनकी आत्मा निश्चित तौर पर भटकती है ऐसा हमारा शास्त्र कहता हे ।

कन्नोद से श्रीकांत पुरोहित की रिपोर्ट