अवैध रेत उत्खनन को लेकर लोग उतरे सड़क पर ग्राम परसडीहा के लोगों ने किया मोरन चौक को जाम। अधिकारी जुटे सरकार को बदनाम करने में कार्यवाही शून्य के बराबर
बलरामपुर छत्तीसगढ़

*अवैध रेत उत्खनन को लेकर लोग उतरे सड़क पर ग्राम परसडीहा  के लोगों ने किया मोरन चौक को जाम। अधिकारी जुटे सरकार को बदनाम करने में कार्यवाही शून्य के बराबर।*

*संदीप कुशवाहा की रिपोर्ट*



ज्ञात हो कि बलरामपुर जिला तहसील वाड्रफनगर अंतर्गत ग्राम परसडीहा हा में मोरन नदी पर रेत का अवैध उत्खनन जोरों पर है ।जिसको देखते हुए आज गांव वालों ने मोरन चौक पर सड़क जाम कर दिया। आनन-फानन में चौकी प्रभारी वाड्रफनगर और साथ ही साथ तहसीलदार पहुंचे और पहुंचते ही लोगों को समझाइश दी की आप लोग सड़क को छोड़ो और जहां से रेत उत्खनन चल रहा है वहां चले हम कार्रवाई करेंगे। परंतु ठेकेदार को सूचना मिलते ही नदी रेत खदान से पोकलेन मशीन और हाईवा अधिकारियों के पहुंचने से पहले सड़क पर लाकर खड़ा कर दिए ।ज्ञात हो कि रेत उत्खनन कहा जाए अवैध तरीके से जैसे ही कांग्रेस की सरकार बनी है ठेकेदारों की मनमानी कहीं ना कहीं आसमान पर हैं ।यदि कोई व्यक्ति संबंधित अधिकारी तहसीलदार एसडीएम को फोन पर जानकारी भी देता है कि सर यहां अवैध रेत का उत्खनन चल रहा है तो अधिकारी टालमटोल करने में लग जाते हैं। इससे यह प्रतीत होता है कि सब की मिलीभगत से या कार्य संपन्न कराया जा रहा है। ग्राम परडीहा के ग्रामीणों द्वारा तहसीलदार वाड्रफनगर विनीत सिंह को यह भी कहा गया है कि यदि एक-दो दिन के भीतर यह अवैध उत्खनन बंद नहीं हुआ तो हम पुनः उग्र आंदोलन करने को मजबूर हो जाएंग इतनी सारी बात होने के बावजूद भी अधिकारियों द्वारा किसी प्रकार का कार्यवाही देखने को नहीं मिला नहीं संबंधित ठेकेदार को I किसी प्रकार का कोई बात नही कही गई कि आप इस तरह से मनमानी ना करें अन्यथा आप पर धनात्मक कार्रवाई किया जाएगा। अनुविभागीय अधिकारी जहां से रेत का अवैध उत्खनन जारी है वहां तो पहुंचे परंतु वहां से इस तरह से बैक हुए की कहीं ठेकेदार हमको देखना ले और देखकर हमारा शिकायत ना कर दे। यहां तक कि अनुविभागीय अधिकारी वाड्रफनगर विशाल महाराणा जो सक्षम अधिकारी होते हैं तहसील की उनकी मंशा ऐसी प्रतीत हुई कि वे खुद ठेकेदार से मिले हैं ।और यदि ऐसा नहीं रहता तो अवश्य उस पोकलेन मशीन और हाईवा को जप्त कर और उसके पर कार्यवाही अवश्य कीये होते परंतु ऐसा कोई प्रतिक्रिया देखने को नहीं मिला गांव वालों ने यह मनसा बनाई है कि यदि एक-दो दिन में यहा से पोकलेन मशीन और हाईवा ठेकेदार लेकर नहीं जाता है। तो  अप्रिय घटना होना भी कोई दो नाम नहीं होगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी वाड्रफनगर के संबंधित अधिकारियों की होगी।