गीतों के माध्यम से कोरोना से बचाव और वैक्सीनेशन अभियान को लेकर लोगों को जागरूक कर रहे
गीतों के माध्यम से कोरोना से बचाव और वैक्सीनेशन अभियान को लेकर लोगों को जागरूक कर रहे डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह
अम्बाला 8 जुलाई, (जयबीर राणा थंबड़)। कोरोना से बचाव और वैक्सीनेशन अभियान को लेकर लोगों को जागरूक करने में लगे अधिकारियों की सर्वत्र प्रशंसा हो रही है। डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह द्वारा लिखे गये और सुमेर पाल द्वारा गाये गये दो हरियाणवी गीतों को गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने लॉंच किया। इससे पूर्व डीपीआईआरओ
सामाजिक और देशभक्ति के विषयों के साथ-साथ सामयिक विषयों को लेकर भी कईं गीत लिख चुके हैं। हरियाणा के गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने जिला सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारी धर्मवीर सिंह द्वारा लिखे और सुमेर पाल द्वारा गाये वैक्वीनेशन अभियान और कोरोना जागरूकता सोंग को लॉंच किया। कोरोना काल में लोगों को जागरूक करने के लिये जो सोंग लिखे गये हैं, उनके बोल हैं ‘कोविशिल्ड और कोवैक्सीन, ये जान बचा री रै, टू डीजी भी गजब दवा, या साथ निभा री रै’ और दूसरा है, ‘कोरोना दुश्मन मानवता का--इसतै बचके रहया करो, दो गज दूरी मास्क जरूरी, हाथ सफाई करया करो’। गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने इस मौके पर बधाई देते हुए कहा कि कोरोना काल में सरकार के साथ-साथ अनेक समाज सेवी संस्थाओं ने अपने-अपने तरीके से आमजन को जागरूक करने के लिये काम किया है और यह सोंग भी लोगों को जागरूक करने का काम करेगा। मौके पर उपस्थित डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह ने बताया कि गृहमंत्री अनिल विज ने इससे पहले भी जनहित के दृष्टिगत कोरोना जागरूकता सोंग, विकास और व्यक्तित्व, विकास की दहलीज और ख्याल इत्यादि गीत लॉंच किये गये हैं। समय-समय पर हमें मंत्री अनिल विज का मार्गदर्शन मिलता रहता है।
इस विषय को  लेकर जब डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह ने बात की गई तो उन्होंने बताया कि सामाजिक, जनगणना, फाना प्रबन्धन और राष्ट्र प्रेम विषय को लेकर कईं सोंग जनसेवा के लिये लिखे गये हैं। जनगणना विषय को लेकर भी दो तर्ज के सोंग लिखे गये थे, जिनको भारत के जनगणना विभाग के महारजिस्ट्रार विवेक जोशी ने सुरजकुंड के मेले में लॉंच किया था। इस मौके पर जनगणना विभाग हरियाणा की निदेशक प्रेरणा पूरी सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे थे। इन हरियाणवी गीतों के माध्यम से जनगणना सम्बन्धी विषय को लेकर प्रचार किया गया तथा गत वर्ष 2020 फरवरी मास में चंडीगढ़ सचिवालय में मुख्य सचिव रही केशनी आनन्द अरोड़ा की अध्यक्षता में प्रदेश के सभी मंडलायुक्तों और उपायुक्तों की एक बैठक आयोजित हुई थी, उसमें भी जनगणना जागरूकता हरियाणवी गीत चलाये गये थे और जनगणना विभाग द्वारा जारी मिनट में भी इन रागनियों का जिक्र किया गया है। बाद में मंडल स्तर पर अम्बाला उपायुक्त कार्यालय में तत्कालीन मंडलायुक्त दीप्ती ऊमाशंकर और उपायुक्त अशोक कुमार ने जनहित में स्थानीय स्तर पर  लॉंच किया था।
यहां पर यह भी उल्लेखनीय है कि फाना प्रबन्धन विषय सरकार की महत्वकांक्षी योजना है। इस विषय को लेकर हरियाणा के मुख्य सचिव रहे डी.एस. ढेसी ने कुरुक्षेत्र सहित कईं अन्य जिलों का दौरा करके फाना प्रबन्धन और सीएचसी की स्थापना के लिये किसानो को प्रेरित करने का काम किया था। कुरुक्षेत्र पोस्टिंग के दौरान डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह ने फाना प्रबन्धन को लेकर एक गीत लिखा था और तत्कालीन उपायुक्त एस.एस. फुलिया ने इस जागरूकता सोंग को लॉंच किया था और बाद में यह सोंग समूचे हरियाणा प्रदेश में चला।
--अम्बाला पोस्टिंग के दौरान जनहित के दृष्टिïगत लिखे गये 7 हरियाणावी गीत।
बॉक्स:- अम्बाला पोस्टिंग के दौरान लोकसभा चुनावों को लेकर भी मतदाता जागरूकता सोंग लिखा गया, जिसको तत्कालीन उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने अधिकारियों की टीम के साथ पंचायत भवन में लॉंच किया था। इसके बाद विधानसभा चुनावों में मतदाताओं को जागरूक करने के लिये भी एक सोंग लिखा गया था, जिसको अम्बाला के उपायुक्त रहे अशोक कुमार शर्मा और जिला पुलिस कप्तान अभिषेक जोरवाल ने उपायुक्त कार्यालय में लॉंच किया था। इससे पूर्व करनाल पोस्टिंग के दौरान सरकार गजब की आई, मोदी जी का व्यक्तित्व, सर्जीकल स्ट्राइक वन, मुख्यमंत्री मनोहर लाल का व्यक्तित्व आवाज फाईनल इत्यादि गीत लिखे गये।
--देश की पराक्रमी सेना के सम्मान में भी लिखे गये गीत।
बॉक्स:- पाकिस्तान द्वारा उड़ी सैक्टर के साथ-साथ पुलवामा में भारतीय सैनिकों पर छिपकर अटैक किया गया। इस विषय को लेकर भी सोंग लिखे गये। जब देश की पराक्रमी सेनाओं ने उड़ी के साथ-साथ पुलवामा का बदला लिया। इतना ही नही गत वर्ष जून 2020 में गलवान में भारतीय सैनिकों के पराक्रम और मोदी जी के तीर सम्बन्धी विषय को लेकर एक सी.डी. लॉंच की गई थी, जिसमें देश की सेनाओं के पराक्रम और मोदी जी की लेह में ललकार को समर्पित यह हरियाणवी सोंग काफी वायरल हुआ। हरियाणा सरकार द्वारा शुरू किये गये गीता जयंती समारोह में भी डीआईपीआरओ द्वारा लिखे हरियाणवी सोंग खूब प्रचारित हुए। चितकारा रेडिया स्टेशन पर गत वर्ष कोरोना जागरूकता अभियान को लेकर लिखा गया सोंग भी काफी वायरल हुआ। मुख्य उद्देश्य यही था कि कोरोना से बचाव को लेकर लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाये।
--दसवीं कक्षा में पढ़ते हुए लिखी थी राष्ट्रभक्ति की पहली कविता--जिसके बोल थे-भारत वीरो की धरती है, अपमान नही सह सकती है, जिस देश के वीर बांकुरे हो, वो चुप कैसे रह सकते हैं।
बॉक्स:- संदर्भित विषय को लेकर जब लेखक डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि पहली कविता दसवीं कक्षा में पढाई के दौरान लिखी, वीर सेनानी नामक इस कविता से आगे बढने की प्रेरणा मिली। अब तक दर्जनों कविताएं और हरियाणवी सोंग लिखे  गए है। सर्जिकल स्ट्राईक वन और सर्जिकल स्ट्राईक टू, सरकार गजब की आई एक और दौ, ब्याज का दर्द, कर्ज बुरी बिमारी, परम्परा सिर पुचकारण की, दोस्ती, ज्ञान सरोवार, दुश्मन, दारा सिंह, बचपन, बेटी का दर्द, बेटी हरियाणै की, शिक्षा और संस्कार, उड़ान, अन्ना जी, गवादर बंदरगाह, मकान किराए का, ग्रेसी की शादी, मेरा गांव ,धाकड़ अफसर, विविध विधाए, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का व्यक्तित्व, खानदान,  धरोहर, गांव की यादें, गांव की गलियां, चित्र और चरित्र, मार्गदर्शन, पोर्टल हरसमय,सरकार गजब की, भाईचारा, भ्रष्टाचार आवाज फाईनल, ग्राम उदय से भारत उदय, शेरों में है बब्बर शेर, देई बदल चाल हरियाणै की, अनिल विज का व्यक्त्वि और विकास, एक दो तीन, चुनाव लोकसभा, चुनाव विधान सभा इत्यादि हैं। लिखे गये हरियाणवी गीतों में से कुछ पाईप लाईन में भी पडे हैं। इनमें से कईं जनसेवा के लिये लॉंच हो चुके हैं।