नियत समय पर जरूरतमंदों को मिले शासन की सुविधाओं का लाभ - मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान

 


नियत समय पर जरूरतमंदों को मिले शासन की सुविधाओं का लाभ - मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान
कमिश्नर एवं कलेक्टर कान्फ्रेंस में मुख्यमंत्री ने की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा
रीवा | 09-दिसम्बर

      मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कमिश्नर एवं कलेक्टर तथा वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ रूबरू संवाद किया तथा विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि यह वीडियो कान्फ्रेंसिंग सुशासन देने का प्रभावी उपकरण है। शासन की सुविधाओं का निश्चित समय पर जरूरतमंदों को लाभ मिले तथा सभी अधिकारी तत्पर होकर आमजन की भलाई के लिये कार्यरत रहें। उन्होंने कहा कि वह स्वयं प्रदेश के विकास के लिये सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश कर रहे हैं अत: सभी अधिकारी अपना सर्वश्रेष्ठ दें। लोकतंत्र में जनता से निरंतर संवाद स्थापित रखें तथा जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय बनाते हुए प्रदेश को विकास के उच्चतम शिखर तक ले जाने का कार्य करें। मुख्यमंत्री ने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश पोर्टल का शुभारंभ करते हुए कहा कि इस पोर्टल में डैशबोर्ड के माध्यम से विभागवार समीक्षा की जायेगी और उसी के आधार पर विभागों एवं जिलों की रैंकिंग भी होगी। श्री चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का आधार स्तंभ है रोजगार व स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराना। अत: प्रदेश के सभी जिलों में 15 जनवरी 2021 को मेले आयोजित कर युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार की उपलब्धता की दिशा में कार्य किया जाय।

    वीडियो कान्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों के व्यवस्थित संचालन की सुनिश्चतता कराते हुए नवीन पात्रता पर्चियों का वितरण सुनिश्चित कराया जाय। शहरी व ग्रामीण पथकर विक्रेताओं को लाभ दिलाने के कार्य प्राथमिकता के आधार पर हों। उन्होंने कहा कि स्वसहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं को रोजगार देने का कार्य आंदोलन के तौर पर कराया जाय। महिला सशक्तिकरण का महाअभियान महिला स्वसहायता समूहों के गठन व उन्हें स्थानीय आवश्यकताओं के हिसाब से उत्पाद बनाने की दिशा में जोड़ने से पूरा होगा। श्री चौहान ने जिलेवार आयुष्मान कार्ड बनाने के अभियान की समीक्षा करते हुए कहा कि यह अभियान गरीबों के लिये वरदान है। मेडिकल कालेज व जिला अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं लोगों को उपलब्ध हों इसके लिये कमिश्नर व कलेक्टर लगातार अस्पतालों का भ्रमण करें। कोरोना टीकाकरण के लिये प्रारंभिक तौर पर टास्कफोर्स का गठन करते हुए सभी तैयारियां रखी जायं ताकि कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता पर इसका सुनियोजित तरीके से टीकाकरण कराया जा सके। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट तौर पर निर्देश दिये कि मिलावट से मुक्ति अभियान को लगातार जारी रखा जाय। अभियान में जो नमूने लिये गये हैं उनकी जांच के बाद मिलावट पाये जाने पर संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाय साथ ही जहां निर्माण हो रहा हो वहां दबिश देकर चेकिंग की जाय तथा नमूने लेने में गड़बड़ी करने वाले अधिकारियों एवं कर्मचारियों के विरूद्ध भी कड़ी कार्यवाही हो।
    खरीफ उपार्जन में धान खरीदी केन्द्रों में किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो तथा किसानों को समय पर राशि का भुगतान किये जाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिये। उन्होंने यूरिया खाद की उपलब्धता की समीक्षा भी की। श्री चौहान ने कहा कि खाद की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध पुलिस में प्राथमिकी दर्ज करने के बाद चालान की कार्यवाही भी करायें तथा नकली खाद व नकली कीटनाशक बेचने वालों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाय। श्री चौहान ने निर्देश दिये कि मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि जरूरतमंद को तत्काल मिले इसमें किसी भी प्रकार का विलंब क्षम्य नहीं होगा।
     मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश शांति का टापू है। यहां किसी भी प्रकार के अपराध या अपराधियों को पनपने नहीं दिया जायेगा। भू माफियाओं के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाय। इसमें इस बात का ध्यान रहे कि गरीब व छोटे व्यक्ति परेशान न हों। चिटफंड माफिया के खिलाफ प्रभावी कार्यवाही किये जाने के निर्देश देते हुए श्री चौहान ने कहा कि लोगों की जमा पूंजी वापस दिलाने की कार्यवाही करायें साथ ही राशन माफियाओं के विरूद्ध भी कड़ी कार्यवाही की जाय। उन्होंने निर्देश दिये कि बेटियों के खिलाफ अपराध न हों इस पर पुलिस सख्त नजर रखे तथा संबंधितों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाय। रीवा जिले में भू माफियाओं व राशन माफियाओं के विरूद्ध की गई कार्यवाही की मुख्यमंत्री ने प्रशंसा की।
    एक जिला एक उत्पाद के तहत रीवा जिले में सुंदरजा आम के उत्पादन व सुपाड़ी के खिलौने की कला को बढ़ावा दिये जाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिये। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी गुड गवर्नेंस के लिये कार्य करें तथा प्रचार माध्यमों से विकास की सकारात्मक तस्वीर सामने लायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह प्रत्येक सप्ताह किसी भी जिले का औचक निरीक्षण भी करेंगे। इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश पोर्टल विकास की स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का माध्यम बनेगा। सभी जिले के अधिकारी इसमें सटीक जानकारी व डेटा फीड करें। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने प्रदेश में कानून व्यवस्था एवं भू माफियाओं व चिटफंड माफियाओं के विरूद्ध की गई कार्यवाही की जानकारी दी तथा निर्देश दिये कि पुलिस प्रशासन पूरी सक्षमता के साथ कानून व्यवस्था को दुरूस्त रखने का कार्य करे।
    वीडियो कान्फ्रेंसिंग में रीवा स्थित एनआईसी में कमिश्नर राजेश कुमार जैन, आईजी उमेश जोगा, डीआईजी अनिल सिंह कुशवाह, कलेक्टर इलैयाराजा टी, पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह, आयुक्त नगर निगम मृणाल मीणा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत स्वप्निल वानखेड़े, अपर कलेक्टर इला तिवारी सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।