समूचे यूक्रेन मे हर पल हो रहे बम धमको के बीच जिंदगी बमुश्किल सांसे ले पा रही हैं।
नर्मदापुरम।समूचे यूक्रेन मे हर पल हो रहे बम धमको के बीच जिंदगी बमुश्किल सांसे ले पा  रही हैं।ऐसी विकट परिस्थिति से निकलकर वतन वापस लोटे नर्मदापुरम के छात्र जैसे ही अपने परिजनों से मिले तो बेहद भावुक हो गये, उनके चेहरे पर पढाई अधूरी छोडकर अचानक लोट आने का गम भी था, तो वहीं जिंदगी बचाकर अपनो के बीच आने की खुशी भी थी।राहुल राय ने भावी जिंदगी के लिए अनगिनत सपने देखे थे।तो उनके परिवार जन भी बेटे के डाँक्टर बनकर लौटने की प्रत्याशा मे खुशी से फूले नही समा रहे थे।कि अचानक 10दिन के अंदर ही सब कुछ बदल गया।
   रुस ने यूक्रेन पर हमला कर दिया ओर अब वहां जिंदगी बचाने के लाले पडे हुए है,।आलम यहहै कि पडोसी देश कि बाँडर पर पहुँचना ओर फिर वहां से गंगे भारत मिशन के तहत भारतीय विमानों मे सवार होकर स्वदेश वापस लौटने तक का सफर किसी जंग से कम नही है।लेकिन देश प्रदेश ओर जिले के जाबांज युवाओं ने अपने हौसले से परिस्थितियों को मात देते हुए भीषण बमबारी के बीच गंगे भारत मिशन के तहत सकुशल वतन वापस आ गये।
     नर्मदापुरम मे परिजनों से मिलने के दौरान भावुक हुए मेडिकल छात्र राहुल ने बताया कि वहां हालत बेहद खराब है,लेकिन भारत सरकार के प्रयास से स्वदेश लोटकर उन्हें नया जीवन मिला है,इसके लिए वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आभारी है।यूक्रेन ओर रुस के बीच चल रहे युध्द के बीच यूक्रेन मे पढाई कर रहे हजारों छात्र अपने देश वापस पहुंचने के लिए जद्दोजहद कर रहे है।राहुल राय ने बताया 24फरवरी को अचानक रुस के हमला कर दिया जिससे सबसे ज्यादा भय बाहर के पढने वाले विधार्थियों को था।हमले तेज होते ही सभी विधार्थी अपने अपने घर जाने के लिए परेशान होने लगे इसी बीच सभी एयरपोर्ट बंद कर दिये गये।
    उन्होंने बताया मेरे 10 दोस्तो ने 13किमी पैदल चलकर बुघजाल पहुंचे जहां से ट्रेन पकडऩे की कोशिश की,लेकिन ट्रेनो मे यूक्रेन के लोगों को प्राथमिकता दी जा रही थी,बडी जद्दोजहद के बाद टेक्सी लेकर 90किमी का सफर तय कर पौलेंड बार्डर पहुंचे इसके बाद हमारी जाचं की गई ओर रहने खाने की व्यवस्था की गई ओर बसों के माध्यम से एयरपोर्ट पहुंचाया गया।जहां से हमें सकुशल दिल्ली पहुंचाया गया।राहुल ने बताया कि मेरे ओर हमारे दोस्तों का एक रुपये भी कही नही लगा और हमें सुरक्षित रुप से हमारे घर पहुंचाया गया।
राहुल और उनके दोस्तों भारत
के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व्दारा विधार्थियों को निकालने के जो प्रयास किये जा रहे है वह सराहनीय है।
Popular posts
साध्वी प्रेम बाईसा के जन्मदिवस पर संतों ने किया संगम वृक्षारोपण
चित्र
खाद्यान्न पर्ची की सूची में 31 मई तक जोड़ा जाएगा नवीन परिवारों को : मंत्री बिसाहूलाल सिंह* ---
चित्र
पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी रहे एक दिवसीय अवकाश पर विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन
चित्र
बाबा रामदेव अवतार धाम रामदेरिया काश्मीर मंदिर ट्रस्ट कमेटी द्वारा नवल किशोर गोदारा को निर्विरोध अध्यक्ष पद पर निर्वाचित किया गया।
चित्र
भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष के प्रथम नगर आगमन पर हुआ भव्य स्वागत
चित्र