कारगिल विजय दिवस की संध्या पर शहिद जवानों को दी श्रद्धांजलिl
कारगिल विजय दिवस  की संध्या पर शहिद जवानों को दी श्रद्धांजलिl

बैतूल/सारनी । कैलाश पाटी। 
ब्लाक भुतपुर्व सैनिक संघ घोड़ाडोंगरी  तत्वावधान में कारगिल विजय दिवस पर ब्लॉक अध्यक्ष भुतपूर्व सैनिक मुन्नालाल कापसे के नेतृत्व में कारगिल विजय दिवस के 22 वर्ष पुर्ण होने पर सारनी के जंय स्तंभ चौक पर बड़ी संख्या में घोड़ाडोंगरी ब्लाक के भुतपुर्व सैनिकों ने शहिद जवानों की शहादत यादकर मोमबत्ती प्रज्वलित एवं फुल अर्पित कर दो मिनट का मौन धारण कर शाहिदो को नम् आखों से  विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।  कारगिल युद्ध खुद लडे भुर्त पुर्व सैनिक ब्लाक अध्यक्ष मुन्नालाल कापसे ने बताया की कारगिल की लड़ाई भारत के आन-बान-शान की लडाई थी। इस लडाई में हमने अपने सैकडो जवानों को खोया। पाकिस्तान ने हमारे सीमा पर अतिक्रमण कर रखा था और यह वही कठिन दौर था। फिर भी भारतीय जवानों ने अपनी जान की बाज़ी लगा कर पाकिस्तान के नापाक इरादों को ध्वस्त किया। कारगिल की हर एक पोस्टों पर नाजायज़ कब्जा को हटाया, वह मंजर आज भी हमे याद हैं की कितनी कठिनाइयों से एक सैनिक अपनी जान की बाज़ी लगाकर देश के लिए कुर्बान होता है। कापसे ने बताया हम उस कारगिल विजय दिवस के साक्षी रहे हैं और अपने शहिद  सैनिकों की शहादत को भुल नही सकते। इस अवसर पर पुरे ब्लाक से आये सभी सैनिक ने भारत माता के नारे लगाये और कसम खाई की जब भी देश को हमारी जरूरत होगी हम तैयार है। पूर्व सैनिक रुपलाल उईके प्रवीण साडे,  विनोद झा, मुन्नालाल कापसे, सुनील साकरे, खुरसिद आलम, मनोहर बिसन्दे, धीरज सोनी, सुधाकर साकरे, सुभा डहारे, मुकेश कुशवाह, प्रकाश घिडोडे, अनवर खान, राजेंद्र सोनी, अनिल सोलंकी, दीपक कुमार, राजेश पुरी गोस्वामी, समाजिक कार्यकर्ता एड राकेश महाले, तिलक सालोडे, रमेश हारोडे, संतोष देशमुख, राजेश डोईफोटे, भूपेन्द्र पाटनकर, सीएम बेलें सहित और प्रमुख  साथियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की।