महा शिव रात्रि पर परेऊ में महादेव जी का मेला आज

 महा शिव रात्रि पर परेऊ में महादेव जी का मेला आज



वागाराम बोस की रिपोर्ट


परेऊ/बाड़मेर गुलाब भारतीजी मठ परेऊ में शुक्रवार को मेला भरा जाएगा।


मठाधिश ऊंकार भारतीजी परेऊ ने बताया कि शुक्रवार को मेला भरा जाएगा। जहां पर परेऊ सहित आस पास के गांव व ढाणियों के सैकड़ों श्रद्धालु द्वादश ज्योतिर्लिंग की पुजा अर्चना कर सुख शांति की कामना करेंगे। उन्होंने बताया कि शुक्रवार शाम को रात्रि जागरण में कलाकारों द्वारा एक से बढ एक मधुर वाणी में भजनों की प्रस्तुति देंगे।साथ मेले में आने वाले  श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि कोविड 19 की सरकारी गाइडलाइन का हर हाल में पालन करे व प्रशासन का सहयोग करें।


 महंत ओंकार भारती बताते हैं की महाशिवरात्रि के दिवस का महत्व बहुत बड़ा भारी है | इस दिन ग्रहों, नक्षत्रों, आदि का ऐसा मेल होता है कि हमारा मन निचे के केन्द्रों से ऊपर आये| विकारी शरीरों की परम्परा में आते हुए भी , निर्विकार नारायण का आनंद माधुर्य पाकर अपने शिव स्वरुप को जगाने के लिए शिव रात्रि आ जाती है|

शिवजी कहते है की मै बड़े बड़े तपों से, बड़े–बड़े यज्ञों से, बड़े-बड़े दानों से, व्रतों से इतना संतुष्ट नहीं होता हु जितना शिवरात्रि के दिन उपवास करने से होता हूँ| भूख करने से जो रोगों के कण पड़े है वे और आलस्य, तन्द्रा बढ़ने वाले विपरीत आहार के कण है वे स्वाहा हो जायेंगे | छुपा हुआ सत-चित-आनंद स्वभाव प्रगट होगा | महाशिवरात्रि को उपवास करके, जागरण करे मौन रहो तो बहुत अच्छा है।

जिनकी उम्र 15 से 45 साल के अन्दर है, उनको अगर कोई बीमारी नहीं, शुगर नहीं, हो सके तो हिम्मत दिखाकर महाशिवरात्रि के सूर्योदय से अगले दिन के सूर्योदय तक निर्जला उपवास । जो ज्यादा दुबले -पतले हों वे ये न करें। जो बराबर ठीकठाक हों वे जरुर करे, बहुत फायदा होगा। युवान भाई-बहनों को आग्रहपूर्वक कहना है कि महाशिवरात्रि के दिन निर्जला उपवास जरुर करें और रात को फिर सोना नही। रात को 2-3-4 बजे तक जगकर पूर्व और उत्तर के बीच ईशान कोण की तरफ मुंह कर के जप करें। बं मंत्र का सवा लाख जप करने से जोड़ों के दर्द एवं वायु संबंधित बीमारियों में लाभ मिलता है।युवा भाई-बहनें खास हिम्‍मत करें भाग्य की रेखा बदल जाएगी