विद्युत नगरी सारणी के सतपुड़ा डेम में फैली जलीय
विद्युत नगरी सारणी के सतपुड़ा डेम में फैली जलीय चाइनीज झालर को हटाने के लिए रविवार को सुबह 8 बजे के लगभग विभिन्न सामाजिक संगठनों, मछुआरा समितियों एवं आम नागरिकों ने पर्यावरण विद मोहन नागर, विधायक डाक्टर योगेश पण्डागरे, जिलाध्यक्ष बबला शुक्ला, अल्पसंख्यक  प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अबिज़र हुसैन, कमलेश सिंह रंजीत सिंह,आदिल खान के नेतृत्व में स्थानीय मछुआरों और आम नागरिको ने छठ घाट पर  विशालकाय जाल बनाकर चाइनीज़ झालर की सफाई के लिए युद्ध स्तर पर जंग छेड़ दी। पर्यावरण विद मोहन नागर ने बताया कि सतपुड़ा जलाशय कभी निर्मल जैसा दिखता था  लेकिन आज इसकी दुर्दशा देखी नहीं जा रही हैं। आज यह डेम संकट में है जब भी कोई बड़ा संकट आता है तो समाज मिलकर मुकाबला करता है। लगभग 3 हजार एकड़ में फैले डेम की सफाई का काम उसी प्रकार कठिन है जैसे त्रेता युग में समुद्र पर सेतु बनाना। इस कार्य को करने के लिए कई नील-नल और हनुमान मिलेंगे । हमें गिलहरी समान योगदान देना है। संकल्प से सब कुछ सम्भव है । पानी को लेकर किया जाने वाला कोई भी काम पुण्य का काम होता है। सभी के संगठित प्रयास से सतपुड़ा जलाशय फिर से स्वच्छ और दर्शनीय बनेगा । ओम साई विजन संस्था, मछुआरा संघ, विद्या भारती, अभियंता संघ, मप्र विद्युत ठेका श्रमिक संघ, धर्म जागरण विभाग, विद्युत उत्पादन कर्मचारी संघ,पावर इंजीनियर एम्प्लाई एसोसिएशन, नगरपालिका मजदूर संघ, टेंट एशोसिएशन, कुनबी समाज संगठन, मेहरा डेहरिया समाज संगठन, भोजपुरी एकता मंच, कालीमाई व्यापारी संघ, बंगाली समाज सेवा समिति, नगरपालिका पार्षद दल ,बगडोना मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि सहित कई गण्यमान्य नागरिक और जनप्रतिनिधि मौजूद थे। वही डेम से चाइनीज झालर को निकालने का कार्य निरंतर जारी रहेगा।  प्रत्येक दिन अलग-अलग संगठन और संस्था डेम से चाइनीज झालर निकालने का कार्य करेंगी।