बीकानेर में 11 मंजिला 'बर्ड अपार्टमेंट' बनाया:1100 पक्षी बना सकेंगे अपना बसेरा, नहाने के लिए स्वीमिंग पूल भी होगा; 5 लाख रुपए खर्च आया
*बीकानेर में 11 मंजिला 'बर्ड अपार्टमेंट' बनाया:1100 पक्षी बना सकेंगे अपना बसेरा, नहाने के लिए स्वीमिंग पूल भी होगा; 5 लाख रुपए खर्च आया*
पक्षियों के लिए जगह-जगह मिट्‌टी के घरौंदे भी बनाए गए हैं।

बाड़मेर से वागाराम बोस की रिपोट 


बीकानेर के एक गांव में पक्षियों के लिए 11 मंजिल का अपार्टमेंट बनाया गया है। यहां वे अपना बसेरा तो बना ही सकेंगे, उनके नहाने के लिए स्विमिंग पूल भी होगा। चुगने के लिए दाने की कोई कमी नहीं होगी। अपार्टमेंट में पक्षियों ने अपना डेरा डालना शुरू भी कर दिया है। पक्षियों को तिनका-तिनका एकत्र करके घौंसला न बनाना पड़े, इसके मिट्‌टी के घरौंदे भी रखे गए हैं। गुल्लक जैसा दिखने वाले इस गुंबद वाली इमारत में करीब 1100 पक्षी रह सकेंगे। इसके निर्माण पर लगभग 5 लाख रुपए का खर्च आया है।

बीकानेर के श्रीडूंगरगढ़ के तौलियासर गांव में बन रहे इन अपार्टमेंट में पक्षियों के लिए हर सुविधा मुहैया कराई जा रही है। यह प्रयास गणेश राजपुरोहित का है। उनका मानना है कि पक्षियों को भी इंसानों की तरह जीने और रहने का हक है। ऐसे में उन्होंने बीकानेर-सरदारशहर मार्ग पर स्थित भैरव नंदी गौशाला में यह निर्माण शुरू किया। गुंबद में बने छोटे-छोटे स्पेस में सैंकड़ों पक्षी आराम से रह सकते हैं।

12 मंजिला गुंबद शेप में बनी यह बिल्डिंग लोगों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। गांववालों के सहयोग से इनका निर्माण कराया गया है।
12 मंजिला गुंबद शेप में बनी यह बिल्डिंग लोगों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। गांववालों के सहयोग से इनका निर्माण कराया गया है।
रेडीमेड घरौंदे भी आकर्षण का केंद्र
कबूतरखाने तो बीकानेर में कई जगह बन गए हैं, लेकिन यह 'बर्ड अपार्टमेंट' कुछ हटकर है। मिट्‌टी के सैकड़ों घरौंदों में पक्षियों के आने-जाने लायक पर्याप्त जगह छोड़ी गई है। छोटी-छोटी चिड़ियों ने इनमें रहना शुरू कर दिया है। चिड़िया आसानी से अपना घरौंदा पहचान लेती है। ये घरौंदे पेड़ पर, लोहे की जाली पर मजबूती से टांग दिए गए हैं।

अब बनेगा पक्षियों का स्विमिंग पूल
राजपुरोहित बताते हैं कि पक्षियों के लिए स्विमिंग पुल का निर्माण भी किया जा रहा है। उसमें कबूतर सहित अन्य पक्षी नहाने का आनंद ले सकेंगे। यह मार्च में ही तैयार हो जाएगा। पानी भी नियमित रूप से बदलने की व्यवस्था की जा रही है।

तौलियासर गांव की गौशाला में टीन शेड के नीचे भी पक्षियों के लिए मिट्टी के घरौंदा टांगे गए हैं। यहां पानी के लिए भी प्रबंध किया गया है।
तौलियासर गांव की गौशाला में टीन शेड के नीचे भी पक्षियों के लिए मिट्टी के घरौंदा टांगे गए हैं। यहां पानी के लिए भी प्रबंध किया गया है।
गांववालों और दानदाताओं ने किया विशेष सहयोग
तौलियासर गांव के उपसरपंच अमर सिंह राजपुरोहित ने बताया कि 12 मंजिला टावर और अन्य व्यवस्थाएं करने में करीब 5 लाख रुपए की लागत आई है। इन घरौंदों में 1100 से ज्यादा पक्षी निवास कर सकते हैं। गौशाला से जुड़े गणेश राजपुरोहित, डॉ. ललित कुमार सोमानी, राजाराम राजपुरोहित, कमल सिंह राजपुरोहित, ओम हरी सिंह के प्रयास और दानदाताओं के सहयोग से यह सब संभव हो पाया है।

तौलियासर गांव के लोगों के सहयोग से इस बर्ड हाउस का निर्माण कराया गया है।
तौलियासर गांव के लोगों के सहयोग से इस बर्ड हाउस का निर्माण कराया गया है।
जंगल में मंदिरों से मंगल
गौशाला में भगवान शिव, गणेश और शनि महाराज के दर्शन भी होंगे। यहां भगवान गणेश का मंदिर है। इसके अलावा एक अन्य मंदिर में 12 आकर्षक खिड़कियां, मुख्य द्वार, शिवलिंग आकार की पानी टंकी और श्री शनिदेव मंदिर के टीन शेड का निर्माण किया गया है। यह कार्य नैनसिंह व छोगसिंह के परिवारों ने कराया है। इसके साथ ही यहां बनी पानी की टंकी और प्याऊ को भी शिव लिंग का रूप दिया गया है, जो दर्शनीय है।

राजस्थान में पहले भी बन चुके हैं ऐसे अपार्टमेंट
राजस्थान में पहले भी पक्षियों के लिए ऐसा प्रेम सामने आ चुका है। इससे पहले नागौर और पाली समेत अन्य जिलों में भी पक्षियों के लिए इस तरह के अपार्टमेंट बन चुके हैं। यहां पक्षियों के अलावा दूसरे जानवरों के लिए भी व्यवस्थाएं की गई है।
Popular posts
शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में व्याख्यानमाला का आयोजन का शुभारंभ किया गया वाणिज्य के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं डॉ.ओ.एन.चौबे
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता
चित्र
पोटाची खळगी भरण्यासाठी रेल्वे गाड्यांमध्ये खेळणी विकणाऱ्या अथवा गायन, संगीत कला सादर करणाऱ्या वांगणी येथील सुमारे ४५० अंध बांधवांसोबत कार्य सम्राट सांसद डॉ शिंदे ने साजरी केली दिवाळी
चित्र
अवैध उत्खनन के विरुद्ध जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई,
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी देश के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती सादगी से जिले भर में मनायी।
चित्र