स्वामी विवेकानंद विचार मंच ने जरूरतमंदो को बांटे गर्म कपडे़ और कंबल।
स्वामी विवेकानंद विचार मंच ने जरूरतमंदो को बांटे गर्म कपडे़ और कंबल।

बैतूल/सारनी। कैलाश पाटील

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी शीत लहर ठंड को देखते हुए स्वामी विवेकानंद विचार मंच सारनी के सदस्यों कार्यकताओं समाजसेवियों ने कम्बल, गर्म स्वेटर जरूरतमन्द सारनी के लोगो को वितरण करने का कार्य प्रारंभ किया। स्वामी विवेकानंद विचार मंच के कार्यकर्ता समाजसेवी रंजीत डोंगरे ने बताया की प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी भीषण ठंडी को देखते हुए जनसहयोग से गर्म कपड़े रीयूज अच्छे कपड़े गर्म कम्बल लोगो से एकत्रित कर नगर के व आसपास के जरूरत मन्दो बुजूर्गो बच्चो असहाय लोगो को ठंड से बचने के किये सभी के सहयोग से वितरण कार्य किया गया। उन्होने बताया कि नगर के जरूरत मन्द लोगो तक पहुँचकर उन्हें गर्म कपड़े रीयूज कपड़े गर्म कम्बल देने का प्रयास किया जा रहा है ताकि जरूरतमंद लोग ठंड से निजात पा सके। वितरण कार्य की शुरुआत स्वामी विवेकानंद विचार मंच के सदस्य वरिष्ठ समाजसेवी पीजे शर्मा, श्याम मदान, पंजाबराव बारस्कर ने जरूरत मन्द लोगो को गर्म कम्बल वितरण किया। वही दूसरी ओर  नगर के वार्ड में आमला सारनी विधायक डॉ योगेश पंडाग्रे, नपाध्यक्ष आशा महेंद्र भारती , उपाध्यक्ष भीम बहादुर थापा , नेता प्रतिपक्ष संजय अग्रवाल , समाज सेवी श्याम मदान के करकमलों से नगर के जरूरतमन्द बुजुर्गों महिलाओ को गर्म कपड़े कम्बल का वितरण कराया गया। स्वामी विवेकानंद विचार मंच ने लोगो से अपील की है कि आपके रीयूज अच्छे कपड़े बच्चो के स्वेटर गर्म कम्बल इत्यादि सामग्री आप स्वयं भी जरूरत मन्द लोगो को इस भारी ठंडी में देकर उन्हें इस ठंड से बचाब हेतु मदद करे या मंच से सम्पर्क कर इस नेक कार्य मे अवश्य सहयोग करे ।
Popular posts
कारखानों ,वेयरहाउस की छत के ऊपर गोल-गोल क्या घूमता रहता है
चित्र
शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में व्याख्यानमाला का आयोजन का शुभारंभ किया गया वाणिज्य के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं डॉ.ओ.एन.चौबे
पोटाची खळगी भरण्यासाठी रेल्वे गाड्यांमध्ये खेळणी विकणाऱ्या अथवा गायन, संगीत कला सादर करणाऱ्या वांगणी येथील सुमारे ४५० अंध बांधवांसोबत कार्य सम्राट सांसद डॉ शिंदे ने साजरी केली दिवाळी
चित्र
अवैध उत्खनन के विरुद्ध जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई,
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता
चित्र