केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, विधायक के प्रयास से कैची धाम मंदिर के दिन बहुरने का मार्ग प्रशस्त हो चला है।
केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, विधायक के प्रयास से कैची धाम मंदिर के दिन बहुरने का मार्ग प्रशस्त हो चला है।
स्थान । नैनीताल।
रिपोर्ट ललित जोशी छायाकार धर्मा चन्देल।
   नैनीताल  । सरोवर नगरी से लगभग 15 किलोमीटर दूर बसा भक्तों के आस्था का केंद्र कैची धाम मंदिर के दिन बहुत अच्छे होने वाले हैं। यहाँ बता दे। केंद्रीय मंत्री व नैनीताल उधम सिंह नगर सांसद, अजय भट्ट के विशेष प्रयासों तथा विधायक संजीव आर्य के अनुरोध पर ,मुख्यमंत्री  पुष्कर धामी की स्वीकृति के उपरांत ,प्रसिद्ध कैंची धाम के दिन बहुरने  का मार्ग प्रशस्त हो चला है।
 अल्मोड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग पर, नैनीताल से लगभग 15 किलोमीटर दूर, यहां वर्ष 1964 में बाबा नीम करोली द्वारा मंदिर की स्थापना की गई ।
कैंची अथवा कैंची जैसी  किसी चीज से इसका कुछ लेना देना नहीं है, अलबत्ता कैंची सरीखे  दो तीव्र मोड़ों के कारण यह स्थान कैंची नाम से  जाना जाने लगा।अपनी नैसर्गिक सुंदरता व खूबसूरत वादियों के बीच बसा यह मंदिर धीरे धीरे स्थानीय लोगों के साथ देश विदेश के लोगो के भी आकर्षण व आस्था का केंद्र बनता गया।
आम जनता के साथ, एप्पल कंपनी के स्टीव जॉब्स, ग्रैमी अवार्ड नामांकित गायक, जय  उत्तल, जूलिया रॉबर्ट जैसी  सेलिब्रिटीज के ध्यान का केंद्र बना तो लोकल एडमिनिस्ट्रेशन का ध्यान  जाना स्वाभाविक था। बाबा के भक्त कहने लगे, यदि स्टीव जॉब को बाबा का आशीर्वाद  न होता  एप्पल का फोन आपके हाथ में ना होता।
बहरहाल देश- विदेश के लोगों के बढ़ते आकर्षण  के कारण जिला प्रशासन द्वारा यहां के सौंदर्यीकरण के साथ, 600 वाहनों के पार्किंग स्थल, होमस्टे तथा आध्यात्मिक केंद्र के निर्माण आदि  का प्रस्ताव तैयार किया गया है जिसका और अधिक विस्तार भी किया जा सकता है। निश्चित रूप से यह स्वागत योग्य है।
Popular posts
विकास आयुक्त कार्यालय भोपाल से संयुक्त आयुक्त गोपाल अग्रवाल ने किया पन्ना जिले का भ्रमण
चित्र
साध्वी प्रेम बाईसा के जन्मदिवस पर संतों ने किया संगम वृक्षारोपण
चित्र
मेसर्स लक्ष्मी बीज उत्पादक सहकारी समिति मर्यादित के एक अमानक गेहूं बीज का जिले में भंडारण और विक्रय प्रतिबंधित
उपसरपंच पद को लेकर त्रिकोणीय मुकाबला
रामानुजगंज चोरपहरी घाट में दर्दनाक हादसा: तेज रफ्तार पिकअप कि टक्कर से सब्जी बेचकर साइकिल से घर लौट रहे किसान कि दर्दनाक मौत, तेज रफ्तार पर नहीं लग सकी लगाम, लगातार हो रहे हादसे।
चित्र