36 खण्डपीठों ने 2134 प्रकरणों का किया निराकरण

 36 खण्डपीठों ने 2134 प्रकरणों का किया निराकरण 



होशंगाबाद सहित इटारसी पिपरिया, सोहागपुर, सिवनी मालवा में  शनिवार को नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया, जिसमें न्यायालयों में लंबित कुल 435 प्रकरणों का निपटारा किया गया, साथ ही 1699 विभिन्न विभागों से संबंधित प्रकरण निपटाये गये। इसी के साथ न्यायालयों में लंबित प्रकरणों में लगभग 7 करोड़ 47 लाख 80 हजार रुपए  के अवार्ड पारित किये गये। विभागीय प्रकरणों में लगभग 1 करोड़ 42 लाख 49हजार  664 रुपये की वसूली हुई।


        11 सितंबर 2021 को आयोजित इस लोक अदालत में मोटर दुर्घटना दावा, चैक बाउंस शमनीय अपराध, वैवाहिक मामले विद्युत चोरी से संबंधित मामलों के साथ-साथ सिविल तथा राजस्व मामले निपटारे के लिए रखे गये थे।




         नेशनल लोक अदालत के शुभारंभ के अवसर पर उद्घाटन कार्यक्रम में प्रधान जिला एवं सेशन न्यायाधीश आलोक अवस्थी, विशेष न्यायाधीश जे०पी० सिंह, प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय देवनारायण शुक्ल द्वितीय अपर जिला न्यायाधीश हिमांशु कौशल , सचिव जिला विधिक प्राधिकरण, प्रिवेन्द्र कुमार सेन. मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सिराज अली श्रम न्यायाधीश सुमित शर्मा, न्यायिक मजिस्ट्रेट विजय पाठक, मीना शाह, नीरज सोनी, सोनाक्षी जोशी, अनुभूति गुप्ता, स्निगधा पाठक, अमोल सांधी, जिला विधिक सहायता अधिकारी सनातन सैन, सहित अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष प्रदीप चौबे पैरालीगल वालेंटियर एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

      जिला न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष आलोक अवस्थी ने बताया कि इस नेशनल लोक अदालत से न्यायालयों में लंबित प्रकरणों में जहां 435 प्रकरणों की कमी आई वही केस से जुड़े पक्षकारों में व्याप्त मतभेद हमेशा के लिए समाप्त हो गया है। लोक अदालत में पक्षकारों के धन एवं समय दोनों की बचत होती है तथा उसे लंबी न्यायिक प्रक्रिया से भी छुटकारा मिल जाता है।

     लोक अदालत में  मोटर दुर्घटना दावा के 30 प्रकरण निराकृत हुए , जिनमे 12450000/- रूपये के अवार्ड पारित हुए । इसी तरह चैक बाउस के मामलें 183 प्रकरण में 56093445 रूपये के मामले निराकृत हुए ।आपराधिक शमनीय प्रकरण 44 प्रकरण निराकृत हुए।

इसी तरह वैवाहिक मामले 50 मामले व विद्युत चोरी के  70 लंबित प्रकरण निराकृत हुए।