रामानुजगंज चोरपहरी घाट में दर्दनाक हादसा: तेज रफ्तार पिकअप कि टक्कर से सब्जी बेचकर साइकिल से घर लौट रहे किसान कि दर्दनाक मौत, तेज रफ्तार पर नहीं लग सकी लगाम, लगातार हो रहे हादसे।
रामानुजगंज चोरपहरी घाट में दर्दनाक हादसा: तेज रफ्तार पिकअप कि टक्कर से सब्जी बेचकर साइकिल से घर लौट रहे किसान कि दर्दनाक मौत, तेज रफ्तार पर नहीं लग सकी लगाम, लगातार हो रहे हादसे।
 

*संदीप कुशवाहा की रिपोर्ट*


रामानुजगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत आरागाही के रहने वाले किसान विजय प्रजापति सब्जी बेचकर साइकिल से अपने घर जा रहे थे, आज शाम तकरीबन 7 बजे के करीब  तेज रफ्तार पिकअप वाहन ने साइकिल सवार को अपनी टक्कर मार दी जिससे युवक कि दर्दनाक मौत हो गई।

मृतक साइकिल सवार का नाम विजय प्रजापति है और वह रामानुजगंज से सब्जी बेचकर वापस अपने घर जा रहा था घर पहुंचने से पहले ही चोरपहरी घाट के पास सामने से आ रही एक तेज रफ्तार पिकअप वाहन ने उसे टक्कर मार दिया और इसके बाद पिकअप वाहन भी कुछ ही मीटर दूरी पर घिसटते हुए पलट गई। इसमें पिकअप चालक को भी चोट लगी है दुर्घटना के बाद वहां लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई और सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंच गई।
मृतक विजय प्रजापति के शव को पोस्टमार्टम के लिए रामानुजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया है।

उचित समय पर पहुंचती एंबुलेंस, तो बच सकती थी जान।

लगातार बलरामपुर जिले में आपातकालीन सहायता नंबर 108 कि लापरवाही सामने आ रही है, घटना स्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि दुर्घटना के बाद युवक कि सांसें चल रही थी कुछ लोगों ने 108 नंबर पर अस्पताल ले जाने के लिए फोन भी लगाया लेकिन जिम्मेदार लोगों के द्वारा फोन नहीं नहीं उठाया गया जिससे जल्द से जल्द रामानुजगंज अस्पताल या फिर जिला अस्पताल नहीं पहुंच सका और युवक कि जान चली गई।
Popular posts
कारखानों ,वेयरहाउस की छत के ऊपर गोल-गोल क्या घूमता रहता है
चित्र
शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में व्याख्यानमाला का आयोजन का शुभारंभ किया गया वाणिज्य के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं डॉ.ओ.एन.चौबे
पोटाची खळगी भरण्यासाठी रेल्वे गाड्यांमध्ये खेळणी विकणाऱ्या अथवा गायन, संगीत कला सादर करणाऱ्या वांगणी येथील सुमारे ४५० अंध बांधवांसोबत कार्य सम्राट सांसद डॉ शिंदे ने साजरी केली दिवाळी
चित्र
अवैध उत्खनन के विरुद्ध जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई,
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता
चित्र