मानसून की पहली बौछार ने प्रशासन के दावों को धोया।
मानसून की पहली बौछार ने प्रशासन के दावों को धोया।

जलभराव की समस्या ने उजाला कस्बा वासियों की मुसीबत बढ़ाई।

बराड़ा, 13 जुलाई(जयबीर राणा थंबड़)

     उपमंडल के कस्बा उगाला में मानसून की पहली बारिश ने प्रशासन के दावों पर पानी फेर दिया। राज्य सरकार ने स्थानीय निकायों कोमानसून वर्षा के मौसम से पूर्व समयबद्ध ढंग से नालों की सफाई, वर्षा के जल की निकासी तथा बाढ़ नियंत्रण उपाय के सभी प्रकार केप्रबंधों को अंतिम रूप देने के कड़े निर्देश दिए थे। स्थानीय नागरिक मंच के सदस्य समाज सेवक चौधरी राकेश भल्ला, चंदन मोंगा, हैप्पीचावला, गोपाल, नरेश, अशोक, बॉबी सिंगला, विक्रम चौहान व रणजीत सेनी आदि का कहना है कि गत कई वर्षों से मानसून मौसम मेंमुख्य बाजार में जलभराव के कारण राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते निरंतर 1 वर्ष से खंड एवंपंचायत अधिकारी बराड़ा सहित विभिन्न मंचों पर समस्या उठाकर प्रशासन का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास करते रहे हैं, परंतु खंडएवं पंचायत विकास अधिकारी बराड़ा ने समस्या को गंभीरता से नहीं लिया। जिसके चलते आज मानसून की पहली बारिश ने कस्बावासियों विशेषकर बच्चों, महिलाओं तथा वरिष्ठ नागरिकों की मुसीबत कई गुना बढ़ा दी है। जगह-जगह भारी मात्रा में जलभराव केकारण राहगीरों के अतिरिक्त दुकानदारों तथा ग्राहकों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नागरिक मंच ने जिला उपायुक्तअंबाला से समस्या का संज्ञान लेने तथा जलभराव की समस्या से निजात दिलाने की गुहार लगाई