ग्राम भारती महिला मंडल द्वारा संचालित स्वाधार गृह, परिवार परामर्श केंद्र, अचार उद्योग का हुआ अवलोकन।
ग्राम भारती महिला मंडल द्वारा संचालित स्वाधार गृह, परिवार परामर्श केंद्र, अचार उद्योग का हुआ अवलोकन।

बैतूल/सारनी। कैलाश पाटील

 14 जुलाई बुधवार को एमएल त्यागी कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत बैतूल , बीएल बिश्नोई  जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास बैतूल एवं शिल्पा जैन सहायक आयुक्त आदिवासी विकास बैतूल, रोशनी अकोदिया सुपरवाइजर सारणी  एवं सुमन कुंभारे सदस्य बाल कल्याण समिति बैतूल ने स्वाधार गृह का निरीक्षण कर सभी महिलाओं से चर्चा की। स्वाधार गृह की व्यवस्था, अनाज भंडार का भी अवलोकन किए। स्वाधार गृह अधीक्षिका ज्योति बागडे द्वारा निरीक्षण दल को बताया कि वर्तमान में 17 महिलाएं एवं 8 बच्चे निवासरत है  काउंसलर नंदा सोनी ने अधिकारी को जानकारी दी। कुछ महिलाओं का समूह बना हुआ जिसमें दिया बत्ती का काम किया जाता है एवं संस्था कार्यालय के अतिरिक्त अचार फैक्ट्री में भी महिलाएं अपनी स्वेच्छा से कार्य कर आय अर्जित कर रही हैं। कुछ महिलाओं को पुनर्वास कर दिया गया।
संस्था अध्यक्ष भारती अग्रवाल ने बताया कि कोविड-19 के दौरान विपरीत परिस्थितियों में जरूरतमंद उन लोगों को अनाज, मास्क वितरित किए गए। स्वाधार गृह निवासरत  महिलाओं की काउंसलिंग कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का प्रशिक्षण दिया जाता है। उसके बाद रोजगार /स्वरोजगार से जोड़ा जाता है। स्वाधार गृह की दो महिलाओं द्वारा नर्सिंग की ट्रेनिंग दिलाई गई उनमें से एक महिला रोशनी बेले को नर्स की नौकरी लग गई।
अधिकारियों द्वारा अचार फैक्ट्री का निरीक्षण कर उनकी गुणवत्ता, अचार निर्माण , पैकिंग के विषय में समूह की महिलाओं ने विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने महिलाओं द्वारा निर्मित अचार की सराहना की महिला समूह की अत्याधिक प्रशंसा कर महिलाओं के उज्जवल भविष्य की कामना की। संस्था ग्राम भारती महिला मंडल द्वारा संचालित एवं राज्य समाज कल्याण बोर्ड भोपाल द्वारा अनुदानित निशुल्क परिवार परामर्श केंद्र का निरीक्षण दौरान काउंसलर श्रीमती हितकला विजय वार  एवं काउंसलर देवेंद्र पवार से प्रकरणों की जानकारी ली गई और सफल कार्य की सराहना की गई। तत्पश्चात अजीम प्रेमजी फाउंडेशन फॉर डेवलपमेंट के सहयोग से ग्राम भारती महिला मंडल द्वारा जरूरतमंद लोगों को अनाज किट वितरित किए। अधिकारियों द्वारा भी आज अनाज किट वितरित किए गए। संस्था द्वारा संचालित सभी गतिविधियों की प्रशंसा कर संस्था के उज्जवल भविष्य हेतु बधाई दी और कहां गया ऐसी संस्थाएं यदि देश में कार्य करती रहे तो कोई व्यक्ति भूखा नहीं रहेगा, सबको सहयोग मिलता रहेगा।