कलक्टर ने की स्वास्थ्य योजनाओं की समीक्षा
*कलक्टर ने की स्वास्थ्य योजनाओं की समीक्षा*

बाड़मेर से वागाराम बोस की रिपोर्ट 

बाड़मेर, 23 जुलाई । जिला स्वास्थ्य समिति की मासिक बैठक शुक्रवार को जिला कलक्टर लोक बंधु की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट कांफ्रेंस हॉल में आयोजित हुई । मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बी एल बिश्नोई ने बताया कि बैठक में जिला कलक्टर ने स्वास्थ्य विभाग में संचालित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की । प्रसव पूर्व पंजीयन, संस्थागत प्रसव, पूर्ण टीकाकरण की खण्डवार उपलब्धियों की समीक्षा करते हुये समस्त खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को अपने खण्ड के समस्त स्वास्थ्य केन्द्रों पर गुणवत्तापूर्ण प्रसव सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिये । लैब टेक्निशियन के रिक्त पदों को यूटीबी आधार पर भरने के निर्देश दिये । जिले में चिकित्सा संस्थानों पर आयोजित होने वाले दिव्यांग शिविरों में अधिक से अधिक दिव्यांगजनों को लाभान्वित करने एवं सूचना देने के उपरान्त भी शिविर में उपस्थित न होने वाले लोगों के आवेदन निरस्त करने के निर्देश दिये । जननी सुरक्षा योजना सहित विभाग की सभी योजनाओं का लाभ निर्धारित समय में जनता को दिलवाने तथा कोविड 19 रोधी टीकाकरण के आगामी सत्रों के दौरान दूसरी खुराक प्राथमिकता से लगाने के निर्देश दिए । नवपदस्थापित सीएचओ एवं सीएचए को विभागीय योजनाओं सम्बन्धी प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए । निदेशालय से जिले में कायाकल्प एवं नेशनल क्व़ालिटी एश्योरेंस स्टेंडर्ड कार्यक्रम की मोनिटरिंग हेतु आये डॉ आर बी जयसवाल, डीपीसी जयपुर ने कार्यक्रम की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये की कायाकल्प कार्यक्रम अनुरूप चिकित्सा संस्थान पर साफ़-सफाई का ध्यान रखते हुये मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाये प्रदान की जावे । सभी चिकित्सा संस्थानों के कायाकल्प कार्यक्रम के आंतरिक मूल्यांकन 30 जुलाई तक पूर्ण करने के निर्देश दिये । मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बी एल बिश्नोई ने जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भाडखा की तरह प्रत्येक खण्ड से 3 चिकित्सा संस्थानों को नेशनल क्व़ालिटी एश्योरेंस स्टेंडर्ड प्राप्त करने हेतु मापदण्ड पूर्ण करने हेतु पाबंद किया । डीपीसी डॉ बी एस गहलोत ने मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया की किसी भी चिकित्सा संस्थान पर दवाइयों की कमी ना हो व समय पर इसकी पोर्टल पर डाटा एंट्री करावे, जिससे मरीजो को इस योजना का भरपूर लाभ मिल सके । जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रीतमोहिन्दर सिंह ने कोविड 19 रोधी वैक्सीन की खाली वायल एवं अन्य जैवकीय अपशिष्ट का प्रबंधन गाइडलाइन अनुसार करने के निर्देश दिये । बायतु प्रभारी डॉ जोगेश चौधरी ने जिला कलक्टर से जिले में सीटीएफ कनेक्टिविटी की सुविधा उपलब्ध करवाने का निवेदन किया । डिप्टी सीएमएचओ डॉ पी सी दीपन ने  मौसमी बिमारियों के बारे में जानकारी दी तथा खण्ड में गठित टीमों द्वारा घर-घर जाकर स्क्रीनिग सर्वे 6 अगस्त तक पूर्ण करने के निर्देश दिये । समेकित रोग निगरानी कार्यक्रम का साप्ताहिक प्रतिवेदन समय पर भेजने के निर्देश सभी खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारीयों को दिये । एडिशनल सीएमएचओ डॉ सत्ताराम भाखर ने परिवार कल्याण के साधनों की प्रगति की समीक्षा करते हुए लक्ष्यों की प्राप्ती के लिए खण्ड एवं सेक्टर स्तर पर लक्ष्यों का विभाजन कर योजना बनाने के निर्देश दिए । जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ अरविंद भट्ट ने सिलिकोसिस रोग के बारे में विस्तृत जानकारी दी तथा क्षय रोग के नोटिफाईड केसों की समीक्षा की । इन मरीजों की लाइन लिस्टिंग समय पर करने के निर्देश दिये । जिला कार्यक्रम प्रबंधक सचिन भार्गव ने मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की समीक्षा करते हुये सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में आने वाले मरीजों को प्रदान की जा रही चिकित्सा सुविधा के अनुसार इस योजना में पंजीकृत करने की जानकारी प्रदान की । बैठक में सभी खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डब्ल्यूएचओ एसएमओ डॉ पंकज सुथार एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी व शहरी कार्यक्रम प्रबंधक अरविन्द सांगवा, डीएनओ मुकेश सिंघाडीया, जिला आशा समन्वयक राकेश भाटी, जिला आरकेएसके समन्वयक उमेदा राम, जिला पीसीपीएनडीटी समन्वयक अजय कल्याण एवं समस्त खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक उपस्थित रहे ।