खाद बीज की नकली किल्लत पैदा कर सरकारी संरक्षण में किसानों को लूटने की साजिश
खाद बीज की नकली किल्लत पैदा कर सरकारी संरक्षण में किसानों को लूटने की साजिश - एड राकेश महाले 
 
बैतूल/सारनी। कैलाश पाटील

प्रदेश में मानसून ने दस्तक दे दी है और किसान खरीफ की फसल की बुआई की तैयारी में जुटा है, तब प्रदेश सरकार ने मानसून से पूर्व न तो पर्याप्त मात्रा में खाद की व्यवस्था की है और न ही बीज ही उपलब्ध कराया है। बारिश के बाद तो कई ग्रामीण क्षेत्रों में बीज खाद पहुंचना ही असंभव हो जायेगा।
गोगंपा आमला सारनी विधानसभा के पुर्व प्रत्याशी एड राकेश महाले ने प्रेस विज्ञप्ति  जारी करते हुए बताया कि प्रदेश भर के किसान सोयाबीन, धान, बाजरा, मक्का, मूंग, मूंगफली, ज्वार आदि के बीज के लिए भटक रहें हैं। सरकार ने सरकारी खरीद केंद्रों पर जो बीज पहुंचाया है, वह ऊंठ के मुंह में जीरा है, जो प्रभावशाली किसानों के बीच बंट कर रह जायेगा। आम किसानों को फसल की बोवनी करने के लिए निजी  बीज केंद्रो से बीज खरीदने और लुटने पर मजबूर होना पड़ेगा।
महाले ने कहा है कि किसानों की यह लूट राजनीतिक संरक्षण में प्रशासन और काला बाजारियों की सांठगांठ से होती है। किसानों को न केवल बीज कालाबाजारी में खरीदना पड़ते हैं बल्कि नकली बीज भी मिलते हैं। यह कालाबाजारी सिर्फ बीज ही नहीं, बल्कि खाद भी नकली और काला बाजारी में खरीदनी पड़ती है। उन्होने कहा  कि आमतौर पर निजी दुकानों से मिलने वाले बीज और खाद की किसानो को रसीद भी नहीं मिलती है, इसलिए यदि किसानों की फसल अंकुरित नहीं होती है या उसमें फूल और फली नहीं आती है तो किसान बीज कंपनी पर मुआवजे के लिए दावा भी नहीं कर सकते हैं। महाले ने मांग की है कि किसानों को नकली खाद और बीज की लूट से बचाने और खरीफ के फसल के भरपूर उत्पादन को सुनिश्चित करने के लिए सरकार तुरंत पहल करे और किसानो के लिए बीज और खाद की पर्याप्त व्यवस्था करे।