सी एम सिटी के गांव काछवा में स्वच्छता अभियान की उड़ रही धज्जियां ।
सी एम  सिटी के गांव काछवा में स्वच्छता अभियान की उड़ रही धज्जियां ।

करनाल  08 जून (संजय भाटिया) करनाल जिला के गांव काछवा मेें ठीक गुरुद्वारे के सामने हरियााणा द्वारा गरीबों परिवारोों  100-100 गज के प्लाट दिए गए थे जिसमें प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान की धज्जियां उड़ रही है  जगह-जगह गंदगी के ढेेेेर लगे पड़े हैं उस कॉलोनी में छोटे बच्चों के लिए स्कूल भी बनाया गया था जिसमें ग्राम पंचायत द्वारा  गांव का मलबा डाला गया है जिससे  सरकार द्वारा बनाई गयी स्कूल बिल्डिंग खंडहर में बदल गई है   सरकार द्वारा उस कॉलोनी में सीवरेज व पानी के पाइप डाले गए थे जिसकी वजह से सारी सड़कें उखाड़ दी गई थी सीवरेज डालने के बाद ना तो उस कॉलोनी में सड़के बनाई गई और ना ही साफ सफाई करवाई गई जिससे कॉलोनी वासियों का कहना है कि यहां पर रहना नर्क से  भी बदतर है क्योंकि सरकार ने हमें 100 गज के प्लाट तो अलाट कर दिए लेकिन सफाई के नाम पर यहां कुछ भी नहीं है गलियां उबड़ खाबड़ हैं जिसमें आधे से ज्यादा प्लाट खाली पड़े हैं उनमें आवारा पशु वह सूअर घूमते दिखाई देते हैं जिससे बरसात आने पर उन प्लाटों में पानी खड़ा हो जाता है और गंदी बदबू आती है जिससे यहां पर रहना बहुत मुश्किल है कॉलोनी वासियों का कहना है कि क्रोना व ब्लैक फंगस से तो हम बाद में मरेंगे पहले तो हम इस बदबू व गंदगी से ही मर जाएंगे जिसको लेकर कई बार सरपंच अजय कुमार से भी अपील कर चुके हैं कॉलोनी वासियों ने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि ओएसडी अमरेंद्र सिंह जब गांव में बैठते थे तो हमने लिखित में कई बार उनको भी शिकायत दी है लेकिन ढाक के तीन पात लेकिन सरपंच ने भी हमारी गलियों का कोई सुधार नहीं करवाया जिससे लोगों में सरपंच व सरकार के खिलाफ भी काफी रोष है आपको बता दें कि स्वच्छता अभियान को लेकर उपायुक्त द्वारा पंचायत प्रतिनिधियों व अधिकारियो  को गांव में गंदगी से मुक्त करवाने का समय-समय पर अभियान भी चलाया जाना चाहिए लेकिन ना तो अधिकारियों को और ना ही ग्राम पंचायत को इस बात से कोई फर्क पड़ता है ऐसे में यह गंदगी सरकार के दावों की पोल खोलती है लोगों का कहना है कि जब मुख्यमंत्री की विधानसभा क्षेत्र के सबसे बड़े गांव काछवा का यह हाल है तो बाकी हरियाणा का क्या हाल होगा