एक कमजोर मुख्यमंत्री कैसा होता है यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जाहिर किया- जीतू पटवारी
*एक कमजोर मुख्यमंत्री कैसा होता है यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जाहिर किया- जीतू पटवारी*

*कोरोना से हो रही मौतों से ध्यान भटकाने के लिए कमलनाथ जी पर हुई एफआईआर- जीतू पटवारी*

*देश के स्वास्थ्य और कानून मंत्री पर भी हो एफआईआर उन्होंने भी कोरोना के लिए 'इंडियन म्यूटेंट स्ट्रेन' शब्द का उपयोग किया- जीतू पटवारी*

भोपाल, 24 मई 2021

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक कमजोर, अपराधी और अकर्मण्य मुख्यमंत्री कैसा होता है यह साबित किया है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाकर भाजपा की शिवराज प्रदेश में कोरोना से हुई मौतों से जनता का ध्यान भटकाना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इसके खिलाफ प्रत्येक जिले में अभियान चलाकर मुख्यमंत्री उनके मंत्री के खिलाफ एफआईआर करवाएगी। जीतू पटवारी ने कहा कि राज्य के बड़े-बड़े शहरों में 20 से 30 हजार लोगों की मौत हुई है कांग्रेस पार्टी इसको लेकर प्रदेश के ग्रामीण स्तर पर, नगर पालिका, नगर निगम स्तर पर हुई मौतों का आंकड़ा एकत्र कर सरकार को सौंपेगी।

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार ने कोरोना के इंडियन बेरियंट शब्द का उपयोग कर कमलनाथ जी पर एफआईआर दर्ज करवाई है क्या उसी प्रकार केन्द्रीय कानून मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री पर भी शिवराज जी एफआईआर दर्ज करवाएगें क्योंकि उन्होंने 09 मई 2021 को सुप्रीम कोर्ट में दिए शपथ पत्र में 'इंडियन डबल म्यूटेंट स्ट्रेन 'शब्द का उपयोग किया है। जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चुनौति देते हुए कहा कि क्या प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और शिवराज सिंह चौहान धृतराष्ट्र है जो केन्द्रीय कानून व स्वास्थ्य मंत्री पर कमलनाथ की तरह एफआईआर नहीं कर पा रहे हैं उन्होंने कहा कि मैं शिवराज जी से अनुरोध करता हूँ कि वह इन दोनों केन्द्रीय मंत्रियों पर केस दर्ज करवाए नहीं तो वह एक कमजोर, अकर्मण्य, झूठे और मक्कार है जो लोगों की लाशों पर रोटिया सेंकता है।

जीतू पटवारी ने कहा कि शिवराज सरकार ने कमलनाथ जी पर एफआईआर दर्ज करवाई क्या वह  उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाएगें जिनकी वजह से ऑक्सीजन की कमी से तड़फ-तड़फ कर मर गए, जिसके वजह से रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी हुई और लोग मर गए, जिन्होंने मौत के आंकड़े छिपाए, जिन्होंने अपनी कार्यशैली से प्रदेश का नाम बदनाम किया। उन्होंने कहा कि जिस शब्द को लेकर कमलनाथ जी पर एफआईआर दर्ज की गई है, वह शब्द देश के कई मीडिया संस्थानों ने अपनी खबरों में किया लेकिन शिवराज जी को सिर्फ कमलनाथ जी ही दिखे आखिर करना क्या चाहते है वह अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए वह यह सब कर रहे है क्या?

जीतू पटवारी ने कहा कि मंहगाई की मार से जूझ रही जनता पहले से ही परेशान है। पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं, खाने का तेल 200 रूपए के पार चला गया है। जनता देख रही है भारतीय जनता पार्टी, मोदी और शिवराज सिंह को जनता उसी तेल से नहलाकर घर भेजेगी। 
उन्होंने प्रदेश में तेजी से फैल रहे ब्लैक फंगस की दवाईयों की कालाबाजारी को लेकर कहा कि जिस तरह रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी हुई कैसे हुई किसी से छुपा नहीं है भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं के यहाँ से बांटे गए 30-30 हजार में कालाबाजारी कर इंजेक्शन बेचे गए इस पर शिवराज जी को ध्यान देकर ब्लैक फंगस की दवाईयों की कालाबाजारी को रोकना चाहिए।

*कांग्रेस ने मुख्यमंत्री पर एफआईआर करने लगाया आवेदन*

काग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने महाराणाप्रताप नगर थाने में सीएम के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने आवेदन दिया ।प्रतिनिधिमंडल में पूर्व मंत्री पीसी शर्मा जीतू पटवारी डा.विजयलक्ष्मी साधो,पूर्व विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति,विधायक आरिफ मसूद,कुनाल चौधरी,राजीव सिंह,भूपेन्द्र गुप्ता,कैलाश मिश्रा विभा पटैल,जेपी धनौपिया आदि उपस्थित थे।