90 दिन बाहर रह सकेंगे कैदी कोरोना से बंदियों को बचाने दिया जाएगा आकस्मिक पैरोल
90 दिन बाहर रह सकेंगे कैदी कोरोना से बंदियों को बचाने दिया जाएगा आकस्मिक पैरोल

भोपाल। कोरोना (ब्वतवदं) के दूसरी लहर में जेल (श्रंपस) बंदियों को संक्रमण (प्दमिबजपवद) से बचाने के लिए हाईकोर्ट (भ्पही ब्वनतज) ने बड़ा निर्णय लिया है। हाईकोर्ट (भ्पही ब्वनतज) ने जेल प्रशासन से सजायाफ्ता बंदियों को 90 दिन के पैरोल (च्ंतवसम) पर छोडने का विचार करने का आदेश दिया है। जेलों (श्रंपसे) में 30,982 विचाराधीन कैदी हैं। कोरोना संकट (ब्वतवदं प्दमिबजपवद) में जेल में रहना, खतरनाक साबित हो सकता हैं। जमानत बांड भरवा का पैरोल पर छोड़ा जाए।
कोरोना के दूसरी लहर में बड़ी संख्या में कैदी संक्रमित हुए हैं। जेल में कैदियों के लिए इलाज की भी व्यवस्था नहीं हैं। इस कारण हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को जेलों में कैदियों की संख्या कम करने के आदेश जारी किए हैं। आदेश के अनुसार उन सजायाफ्ता कैदियों को पैरोल दी जा सकती है जो 60 साल से अधिक उम्र के पुरुष कैदी है, सभी महिला कैदी, जिनकी उम्र 45 साल से अधिक हों वे सभी महिला कैदी, जिनके बच्चे हैं या फिर जो महिला कैदी गर्भवती हैं और गंभीर बीमारी से ग्रसित बंदियों को।

जेलों में क्षमता से ज्यादा कैदी
प्रदेश की 131 जेलों में कैदियों को रखने की कुल क्षमता 28,675 हैं, लेकिन 49,471 कैदी बंद हैं। यह स्थिति तब है, जब से 4500 कैदी पैरोल पर रिहा किए गए हैं। हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को आदेश दिया है कि सजायाफ्ता कैदियों के लिए जेल अधिकारी आकस्मिक पैरोल देने पर विचार करें। यह पैरोल कम से कम 90 दिन की होनी चाहिए। इसमें कोर्ट ने अलग-अलग कैदियों के लिए आदेश जारी किया है।

विचाराधीन कैदियों के लिए आदेश
हाईकोर्ट के आदेश में कहा गया है कि जेलों में 30,982 विचाराधीन कैदी हैं। जेलों में बंद विचाराधीन बंदियों को पैरोल के लिए आवेदन देना होगा। फिर जेल अधीक्षक इन आवेदनों को जिला अदालत तक पहुंचाएंगे। इसके बाद इन्हें अस्थाई जमानत मिल पाएगी। हालांकि, कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि पूर्व में अंतरिम जमानत मिलने वाले बंदियों ने इस दौरान अपराध किया है, उन्हें जमानत का लाभ नहीं मिलेगा।

गैर जमानतीय वारंट वाले बंदियों को पहले करना होगा सरेंडर
इसके साथ ही गैर जमानतीय वारंट वाले बंदियों को भी पहले सरेंडर करना होगा, तब उने मामले में पैरोल पर विचार किया जायेगा। पैरोल पर छोड़े जाने के बाद जो कैदी जेल में बचेंगे, उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी। यदि किसी कैदी में कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं, तो उसका आरटी-पीसीआर टेस्ट होगा। उसे आइसोलेट किया जायेगा। नए कैदियों को आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाने के बाद शुरुआत के 15 दिनों तक आइसोलेट रखा जाएगा। कोरोना संक्रमित होने पर जेल प्रशासन को उसका इलाज कराना होगा।
कोरोना के पहले दौर में भी बंदियों को मिला था पैरोल
यहां बता दें कि पिछले साल 6500 बंदियों को जेल विभाग ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए कोरोना जमानत पर छोड़ा था। इसमें पैरोल पाने वाले 3800 बंदी थे। 60-60 दिन का पैरोल अवधि बढ़ाया गया था। नंवबर माह में आखिरी बार 60 दिन के लिए इसे बढ़ाया गया था। जनवरी में पैरोल पर छूटे सभी बंदी वापस जेलों में पहुंच चुके हैं। कुछ नहीं पहुंचे, तो उनके खिलाफ विभिन्न थानों में स्नढ्ढक्र दर्ज कराई गई है।