आलमपुर करीबी गावँ दूधकच्छ कलाँँ के रहने वाले पिछले दिनों रविवार रात्रि में हुई घटना
आलमपुर करीबी गावँ दूधकच्छ कलाँँ के रहने वाले पिछले दिनों रविवार रात्रि में हुई घटना मे परिवार बिखर गया ज्ञात हो टिमरनी नगर  वार्ड क्रमांक 13 में  एक व्यक्ति को कोरोना वेकसीन लगवाना इतना मेहंगा पडेगा यह उसने सोचा भी नहीं था। लेकिन कोरोना वेकसीन लगावाने के दुसरे ही दिन व्यक्ति की मौत हो गई। जानकारीी के अनुसार मृतक ज्ञान सिंह तोमर के बड़े भाई रतन सिंह तोमर यशवंत सिंह तोमर इसी तरह परिवार के परिजनो ने बताया डाक्टरों द्वारा किसीी भी प्रकार की बिना जांच किए एवं लापरवाही पूर्वक कोरोना वेकसीन लगाई गई जिससे इतना बड़ााा हादसा हो गया एवं परिवार मैं मृतक ज्ञानसिंह तोमर जिसकी उम्र 43 साल है जो की ग्राम पंचायत बोथी में सचिव के पद पर पदस्थ थ़े। जिनके परिवार में एक 12 से 13 साल के बीच का लड़काा है और सोलह 17 साल की बालिका है जो कि इस घटना के बाद बेसहारा हो गये परिवार के लोगों का रो रो कर बुरा हाल है विभाग की जरा सी लापरवाही से परिवार बिखर गया एक रोज पहले शनिवार को मोबाइल पे मैसेज आनेेे के बाद वेकसीन 13 फरवरी को लगाई गई थी ओर दूसरे दिन कोरोना वेकसीन के टीके से अत्यधिक घवराहट ओर बेचेनी हुई ओर अचानक सांस सुकने लगी जिन्हें पास हीी के खेत से  सामुदायिक अस्पताल तक भी नहीं पहुंचाया जा सका  और मृत्यू हो गई। परिजनो ने आरोप लगाते हुए कहां की यदि कोई बीमारी से  इस तरह की घटना होती तो मृत्यु उपरांत  चेहरा एवं जीभ काली नहीं पढ़ती क्योंकि मृतक ज्ञान सिंह तोमर का चेहरा एवंं जीभ मृत्यु के कुछ  देर बाद ही काली पड़ चुकी थी ऐसा क्यों हुआ इसका जवाब किसी के पास नहीं है थोड़ी सी लापरवाही से परिवार  को संभालने वाला सदस्य  खोना पड़ा मृतक के बड़े भाई रतन सिंह तोमर द्वारा  यह बताया गया की मेरे भाई की डॉक्टरों द्वारा पहले शारारिक जांच करनी थी एवंं पूर्ण तरह स्वस्थ होने के बाद ही  कोरोना वैक्सीन टीका लगाया जाना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं करते हुए डाॅक्टरों ने बिना पूछे बिना जांच के कोरोना वेकसीन का टीका लगा दिया। जिसका खामियाजा मेरे भाई ओर परिवार को भुगतना पडा इसी तरह परिवार द्वारा आरोप लगाते हुए बस एक सवाल काा जवाब मांगा है कि कोरोना वैक्सीन लगने के एक दिन बाद ऐसा क्यों हुआ और हुआ तो  चेहरा और जीभ कालीी क्यों पड़ी