बर्ड फ्लु से बचाव के लिए दिशा-निर्देश जारीकृष्णा
 बर्ड फ्लु से बचाव के लिए दिशा-निर्देश जारी

कृष्णा कुमार पासवान की रिपोर्टिंग

बलरामपुर :-08 जनवरी 2021 वर्तमान में देश के कुछ राज्यों में एविएन इन्फ्लुएंजा-बर्ड फ्लु के प्रकोप को दृष्टिगत रखते हुए छत्तीसगढ़ राज्य मं एविएन इन्फ्लुएंजा बर्ड फ्लु के त्वरित नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु दिशा-निर्देश जारी किया गया है। देश में कोरोना वायरस का कहर अभी कम हुआ नहीं हुआ कि बर्ड फ्लु के चलते मध्यप्रदेश, राजस्थान, हिमांचल प्रदेश, पंजाब व केरल में अलर्ट की स्थिति है। जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। एवियन इन्फ्लुएंजा का संक्रमण मनुष्य में संक्रमित प्रवासी पक्षी व पोल्ट्री के माध्यम से फैलता है। यह वायरस, संक्रमित पक्षियों के लार, नाक, आंख स्त्राव व बीट में पाया जाता है। संक्रमित पक्षियों के सम्पर्क में आने से इंसानों में भी यह रोग फैलता है। मनुष्य में बर्ड फ्लु के फैलने से आंखों का संक्रमण, सांस लेने में तकलीफ, निमोनिया, मस्तिष्क में सूजन व हृदय में सूजन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। मनुष्य में संक्रमण की जांच हेतु लक्षण दिखाई देने पर निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र से सम्पर्क कर उपचार प्राप्त करें। संक्रमण के प्रसार तथा रोकथाम हेतु पक्षियों के पंख, लार तथा अपशिष्ट पदार्थो को न छुए। पक्षियों के देखभाल करते समय नाक व मुंह घने कपड़े या मास्क से ढक कर रखें। उन्होंने पड़ोसी राज्यों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए नागरिकों से अपील की है कि वे अपने क्षेत्र में पक्षियों के बहुतायात में असामान्य मृत्यु होने पर निकटस्थ पशु चिकित्सालय एवं पशु औषधालय से संपर्क करें तथा प्रशासन को सूचना दें।