स्व सहायता समूहों को बैंक लिंकेज में जिला प्रदेश में प्रथम

 स्व सहायता समूहों को बैंक लिंकेज में जिला प्रदेश में प्रथम


होशंगाबाद , स्व सहायता समूह की महिलाओं को सशक्त करने एवं उन्हें बेहतर बैंक लिंकेज उपलब्ध कराने में जिला प्रशासन द्वारा लगातार बेहतर प्रयास किए जा रहे है। फलस्वरूप समूह की महिलाओं को बैंक लिंकेज उपलब्ध कराने में जिले को प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्व सहायता समूह को बैंकों के माध्यम से ऋण वितरण में बेहतर कार्य तथा प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त करने जिला प्रशासन की पूरी टीम को बधाई दी है । 
  उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्री धनंजय सिंह द्वारा स्व सहायता समूह की महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण व समूहों को बेहतर बैंक एवं मार्केट लिंकेज हेतु सतत मॉनिटरिंग की जा रही है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा स्व सहायता समूहों के बने उत्पाद के विक्रय हेतु जिला पंचायत परिसर में आजीविका बाजार व केंटीन हेतु दुकान उपलब्ध कराई गई है।    
          जिले में महिला स्व सहायता समूहों को विभिन्न आजीविका गतिविधियां, कृषि कार्य, व अन्य कार्य हेतु राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से स्व सहायता समूहों को बैंकों के माध्यम से कम ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जाता है। वित्तीय वर्ष 2020- 21 में मध्य प्रदेश के समस्त जिलों में से होशंगाबाद जिले के द्वारा स्व सहायता समूहों को सर्वाधिक ऋण उपलब्ध कराया गया है।    
     वर्तमान में होशंगाबाद जिले के 1305 स्व सहायता समूहों को 18 करोड़ 25 लाख का बैंक ऋण, बैंक शाखाओं द्वारा उपलब्ध कराया गया है। जिसमें सर्वाधिक मध्यप्रदेश ग्रामीण बैंक द्वारा लगभग 9 करोड़ का ऋण वितरण किया गया है। स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा प्राप्त ऋण को विभिन्न आजीविका गतिविधियों में लगाकर आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रही है।स्व सहायता समूह की महिलाएं आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश की परिकल्पना साकार करने में अहम भूमिका निभा रही है।
 जिले में ग्राम रंढाल के महालक्ष्मी स्व सहायता समूह के द्वारा पंजाब नेशनल बैंक शाखा होशंगाबाद से 5 लाख  की धनराशि दी गई है। इस राशि में से श्रीमती बंदना पाल के द्वारा 50000 रुपए की राशि ऋण राशि ली है। बंदना पाल के द्वारा कृषि कार्यों में ऋण राशि का उपयोग किया जा रहा है।
      ग्राम अंधियारी के जागृति स्व सहायता समूह के द्वारा केनरा बैंक शाखा खेड़ला से 400000 लाख का ऋण लिया गया है। जागृति स्व सहायता समूह की सदस्य श्रीमती लक्ष्मी चौधरी कहती हैं कि मैंने इस राशि में से 60000 हजार की ऋण लिया है। इस राशि से मैंने गणवेश सिलाई करने हेतु सिलाई मशीन ली है व 3 एकड़ कृषि हेतु सिकमी जमीन ली है। 
ग्राम साकेत के मां दुर्गा स्व सहायता समूह के द्वारा पंजाब नेशनल बैंक शाखा  इटारसी यार्ड से 500000 लाख का ऋण लिया गया है। इस समूह की सदस्य श्रीमती रजनी पटेल के द्वारा समूह से 200000  लाख का ऋण लेकर दोना पत्तल डिस्पोजल का व्यवसाय शुरू किया गया है।