कश्मीर द्वारका राम हत्याकांड के जांच में लापरवाही करने में वह देरी करने के मामले में हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी साथ ही उप अधीक्षक को किया तलब




 संवाददाता वागाराम बोस 



परेऊ/बाड़मेर काश्मेर प्रकरण मे द्वारकाराम हत्याकांड के संबंध में आज राजस्थान हाईकोर्ट में सुनवाई करते हुए जस्टिस श्रीमान मनोज कुमार गर्ग ने पुलिस द्वारा जांच मे लापरवाही करने, केस डायरी पेश करने मे देरी करने व जांच मे अनावश्यक देरी करने के मामले मे माननीय हाईकोर्ट ने जताई कड़ी नाराजगी तथा 10 तारीख को बाड़मेर पुलिस उप-अधीक्षक व्यक्तिगत रूप से हाई कोर्ट मे तलब किया। पीड़ित परिवार इसमें निष्पक्ष अनुसंधान नहीं होने के कारण इस मामले मे CBI जांच की मांग कर रहे हैं। क्योंकि जांच अधिकारी एवं बाड़मेर पुलिस उप अधीक्षक महावीर प्रसाद शर्मा ने ना तो कोई दस्तावेज कंसीडर किए हैं, ना किसी हत्यारे की गिरफ्तारी की हैं, ना ही इस मामले की प्रॉपर जांच की है, इस हत्याकांड के बाद गवाह पर हमला हो गया जिसकी एफआईआर भी पुलिस थाना शिव मे दर्ज हो गई है उसके बावजूद भी किसी भी हमलावर को गिरफ्तार नहीं किया है व न ही पुलिस ने पीड़ित परिवार को कोई सुरक्षा दी है। इससे साफ जाहिर होता है की पुलिस हत्यारों के साथ मिली हुई हैं तथा वह इस मामले को रफा-दफा करना चाहती हैं। द्वारकाराम हत्याकांड के मामले में सबसे बड़ी ताज्जुब की बात यह है कि पुलिस इस हत्याकांड से संबंधित पीड़ित परिवार से डॉक्यूमेंट भी कंसीडर नहीं कर रही हैं तथा इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर महावीर प्रसाद शर्मा, पुलिस उप-अधीक्षक बाड़मेर द्वारा बार-बार मृतक द्वारकाराम के पीड़ित परिजनों पर यह दबाव बना रहे हैं कि आप हाईकोर्ट से मामला वापस ले लो तो कुछ कार्यवाही हो जाएगी अन्यथा कार्यवाही नहीं होगी। जो पूरी तरह अवैधानिक कृत्य है तथा इससे साफ जाहिर है कि पुलिस इस मामले में हत्यारे लोगों को बचाना चाहती हैं तथा पीड़ित परिवार की कोई मदद नहीं करना चाहती है जो कि उनका अधिकार हैं। इस मामले में एक वीडियो ऐसा भी हैं जिसमें हत्या की पुष्टि हो रही हैं लेकिन पुलिस मजबूत एविडेंस होने के बावजूद भी हत्यारों को बचा रही हैं।

इस मामले में पीड़ितोँ की तरफ से राजस्थान उच्च न्यायालय में अधिवक्ता श्री विपुल सिंघवी ने बहस की जिस पर न्यायमूर्ती श्री मनोज कुमार गर्ग ने 10 दिसंबर 2020 को जांच अधिकारी एवं पुलिस उपाधीक्षक बाड़मेर को व्यक्तिगत रुप से केस डायरी और अन्य सभी रेलीवेंट डॉक्युमेंट्स सहित माननीय राजस्थान हाईकोर्ट में तलब किया है।हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं होने के कारण ब्राह्मण समाज ने पूर्व में पुलिस अधीक्षक बाड़मेर, जिला कलेक्टर बाड़मेर एवं पुलिस महा निरीक्षक,  रेंज जोधपुर को ज्ञापन देकर रोष भी प्रकट किया था तथा अब तक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं होने एवं इस मामले का खुलासा नहीं होने के कारण पूरे समाज में रोष व्याप्त है।