नेहरबन्दी के दौरान पेयजल आपूर्ति की समुचित तैयारियों के निर्देश

 आवश्यक सेवाओं की साप्ताहिक समीक्षा


नेहरबन्दी के दौरान पेयजल आपूर्ति की समुचित तैयारियों के निर्देश



गिड़ा बाड़मेर से वागाराम बोस की रिपोर्ट 


बाड़मेर, 30 दिसम्बर। जिला कलक्टर विश्राम मीणा ने आगामी समय में नेहरबन्दी के दौरान समुचित पेयजल आपूर्ति के लिए अग्रिम कार्ययोजना बनाकर पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है ताकि पेयजल आपूर्ति में किसी प्रकार का व्यवधान न हो। 

बुधवार को कलेक्ट्रेट कांफ्रेन्स हॉल में जिले में पानी, बिजली तथा चिकित्सा व्यवस्थाओं की साप्ताहिक समीक्षा के दौरान जिला कलक्टर मीणा ने कहा कि नेहरबन्दी से पूर्व पेयजल स्टोरेज के सोर्स की साफ सफाई एवं रख रखाव की समुचित तैयारियां पूर्ण कर ली जाए। उन्होने नेहरबन्दी के दौरान जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियन्ता से पेयजल आपूर्ति के संबंध में विस्तार के साथ जानकारी ली तथा आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए। इस दौरान जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियन्ता जे. सी. व्यास एवं आईजीएनपी जैसलमेर के अधीक्षण अभियन्ता रंजन जैन ने नेहरबन्दी के दौरान पेयजल आपूर्ति के संबंध में व्यवस्थाओं से अवगत कराया। 

साप्ताहिक बैठक के दौरान जिला कलक्टर ने टयुबवेल एवं हैण्डपम्प खुदाई कार्यो की खण्डवार समीक्षा की तथा स्वीकृत हैण्डपम्प/टयुबवेल शीध्र ड्रिल करवाकर कमीशण्ड करने के निर्देश दिए। उन्होने विधानसभा वार पेयजल एवं विद्युत व्यवस्थाओं की प्रगति का मासिक ब्यौरा हर माह संबंधित विधायक को भिजवाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होने जिले में विद्युत आपूर्ति को सुचारू रखने के निर्देश देते हुए कहा कि हर हाल में पेयजल स्त्रोतों पर बिजली अबाध रखी जाए। उन्होने जिला चिकित्सालय में ऑक्सीजन की कमी नहीं आने देने को कहा तथा आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन सिलेण्डर स्टॉक में रखने को कहा। इस दौरान राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज बकाया प्रकरणों की विभागवार विस्तार से समीक्षा की तथा लम्बित प्रकरणों का त्वरित निस्तारण करने के निर्देश दिए। उन्होने निर्देश दिए कि हर हाल में 30 दिन से पूर्व किसी भी शिकायत का निस्तारण हो जाना चाहिए। उन्होने सभी विभागों के 30 से 45, 45 से 60 दिनों के बीच बकाया प्रकरणों को गम्भीरता से लेने को कहा। 

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर ओमप्रकाश विश्नोई, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मोहनदान रतनू समेत विभिन्न विभागों के विभागीय अधिकारी उपस्थित रहें।