मेहंदी छूटने से पहले टूटी सांसें:जयपुर में तेज रफ्तार बस ने पति-पत्नी को कुचला, 14 दिन पहले ही हुई थी शादी

 मेहंदी छूटने से पहले टूटी सांसें:जयपुर में तेज रफ्तार बस ने पति-पत्नी को कुचला, 14 दिन पहले ही हुई थी शादी


जयपुर

हादसे में मृतक महेश और संजना की फाइल फोटो। 14 दिन पहले ही दोनों ने अपनी नई जिंदगी की शुरुआत की थी।

बस पलटने से करीब 17 सवारियां जख्मी हो गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।



जयपुर में सोमवार को हुए दर्दनाक सड़क हादसे में पति-पत्नी की मौत हो गई। दोनों की 14 दिन पहले यानी 30 नवंबर को शादी हुई थी। हादसा चंदवाजी इलाके में ताला मोड़ के पास हुआ। यहां तेज रफ्तार प्राइवेट बस ने बाइक से जा रहे नवदंपती को टक्कर मार दी। इसके बाद बेकाबू बस डिवाइडर पर चढ़कर पलट गई, जिसमें बस सवार 15 यात्री जख्मी हो गए।



हादसे में महेश की बस के टायर के नीचे आने से मौके पर ही मौत हो गई।

हादसे में महेश की बस के टायर के नीचे आने से मौके पर ही मौत हो गई।

हाथों की मेंहदी छूटने से पहले दोनों की सांसें टूटी

हादसे में शाहपुरा में खोरी रोड निवासी महेश कुमार यादव (22) और उनकी पत्नी संजना (20) की मौत हो गई। महेश ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जबकि गंभीर रुप से जख्मी संजना की दो घंटे बाद अस्पताल में मौत हुई। महेश और संजना की 14 दिन पहले ही शादी हुई थी। नवदंपती सोमवार दोपहर को जैतपुर खींची में रहने वाली अपनी बुआ के यहां जा रहा था।


सात बहनों का इकलौता भाई था महेश

हादसे में मारा गया महेश सात बहनों का इकलौता भाई था। 6 बहनें उससे बड़ी और एक छोटी है। सभी बहनों की शादी हो चुकी है। महेश की शादी से तीन दिन पहले यानी 27 नवंबर को उसकी तीन बहनों की शादी हुई थी। वहीं, संजना के भाई की शादी 7 दिसंबर को हुई थी। ऐसे में दोनों परिवारों में अभी खुशियों का माहौल था। महेश अभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। उसके पिता शंभूदयाल यादव हलवाई का काम करते हैं।


बाइक को टक्कर मारने के बाद डिवाइडर पर चढ़कर पलटी बस को क्रेन से हटाया गया।

बाइक को टक्कर मारने के बाद डिवाइडर पर चढ़कर पलटी बस को क्रेन से हटाया गया।

बेटे का शव देख बार-बार बेसुध हुए पिता

हादसे की खबर सुनते ही बड़ी संख्या दोनों परिवार के लोग निम्स अस्पताल पहुंच गए। यहां पर बेटे और बहू की मौत की खबर सुनकर पिता शंभुदयाल बार-बार बेसुध हो रहे थे। उन्हें रिश्तेदार संभालते रहे। यही हाल संजना के पिता जगदीश प्रसाद का भी रहा।


बस पलटने से करीब 17 सवारियां जख्मी हो गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

बस पलटने से करीब 17 सवारियां जख्मी हो गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ताला मोड़ कट के पास ज्योंही बाइक को घुमाया, बस ने कुचला

जयपुर-दिल्ली हाइवे पर ताला मोड़ के पास बाइक चला रहे महेश ने ज्योंही कट पर बाइक को घुमाया। तभी पीछे आ रही तेज रफ्तार बस ने बाइक को टक्कर मार दी और बेकाबू होकर डिवाइडर पर चढ़कर पलट गई। बस के टायरों के नीचे कुचलने से महेश की मौके पर मौत हो गई।


हादसे के बाद बस में फंसी सवारियों को स्थानीय लोगों ने खिड़की के रास्ते बाहर निकाला। रिपोर्ट-मुकेश प्रजापत/सुरेश शर्मा

हादसे के बाद बस में फंसी सवारियों को स्थानीय लोगों ने खिड़की के रास्ते बाहर निकाला। रिपोर्ट-मुकेश प्रजापत/सुरेश शर्मा

इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने बस में मौजूद सवारियों को खिड़की तोड़कर बाहर निकाला। उन्हें एंबुलेंस व निजी वाहनों से अस्पताल पहुंचाया गया। करीब 17 सवारियों को चोट आईं। उन्हें निम्स अस्पताल में उपचार के लिए पहुंचाया गया। जहां से 10 को छुट्‌टी दे दी गई। हादसे की सूचना पर चंदवाजी पुलिस मौके पर पहुंची और क्रेन की मदद से बस को हटाया।


प्रत्यक्षदर्शी की जुबानी; बाइक को टक्कर मारने के बाद तेज रफ्तार बस पलटी, फिर खड़ी हुई, फिर पलटी


बस सवार पाटन निवासी महेश यादव ने बताया- मैं चालक की सीट के पीछे ही बैठा था। मैं कोटपूतली से जयपुर आ रहा था। ताला मोड़ के पास आगे चल रही बाइक सवार ने कट पर बाइक घुमाई पर बस इतनी तेज थी कि बाइक को टक्कर मारकर अनियंत्रित हुई। एक बार पलटकर सीधी हुई और फिर पलट गई।

बागावास अहिरान निवासी पूजा यादव ने बताया- मैं पति मालीराम के साथ जयपुर जा रही थी। बस बहुत तेज थी, जिससे अनियंत्रित होकर पलट गई। गति कम होती तो हादसा नहीं होता।

सेड का बास निवासी मोहनलाल मेहरा ने बताया- बस की ओट में कीकर का पेड़ न आता तो और भी पलटी खाती हुई नीचे जा गिर जाती। बड़ा हादसा हो जाता।