गरीब कल्याण रोजगार अभियान की हर गतिविधि में शत्-प्रतिशत लक्ष्यपूर्ति करें - कलेक्टर
गरीब कल्याण रोजगार अभियान की हर गतिविधि में शत्-प्रतिशत लक्ष्यपूर्ति करें - कलेक्टर
ग्रामीण विकास योजनाओं की समीक्षा बैठक
कटनी | 18-नवम्बर


 

    कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास योजनाओं की समीक्षा के दौरान गरीब कल्याण रोजगार अभियान में निर्धारित सभी 25 प्रकार की गतिविधियों में शत्-प्रतिशत लक्ष्यपूर्ति करने के निर्देश दिये हैं। बुधवार को सम्पन्न समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने ग्रामीण विकास की योजनाओं, मनरेगा, गौशाला निर्माण, सांसद आदर्श ग्राम, सामुदायिक स्वच्छता, मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना, स्वसहायता समूह और आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री आवास, सीएम हेल्पलाईन सहित विभिन्न विषयों पर गहन समीक्षा की। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत जगदीश चन्द्र गोमे, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी गौरव पुष्प, डिप्टी कलेक्टर संघमित्रा गौतम, परियोजना अधिकारी ज्ञानेन्द्र सिंह, कार्यपालन यंत्री आरईएस एम.एस. ठाकुर, जनपद पंचायत के सहायक यंत्री और सीईओ उपस्थित थे।
    गरीब कल्याण रोजगार योजना की समीक्षा करते हुये कलेक्टर श्री सिंह ने वित्त आयोग के कार्य, कुओं का निर्माण, हॉर्टीकल्चर, खनिज मद, पीएम कुसुम योजना के कार्यों में शत्-प्रतिशत लक्ष्यपूर्ति करने के निर्देश दिये। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री गोमे ने बताया कि 20 जून से प्रारंभ समय सीमा की इस योजना में 27 लाख 72 हजार 167 मानव दिवस श्रम अर्जित करने का लक्ष्य था। जिसमें 249 करोड़ रुपये खर्च कर 37 लाख 77 हजार 498 मानव दिवस श्रम अर्जित कर 136 प्रतिशत की उपलब्धि हासिल की गई है। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि कुल स्वीकृत 248 सामुदायिक स्वच्छता परिसर में 201 पूर्ण हो गये हैं, शेष अप्रारंभ 12 परिसरों का कार्य शीघ्र पूरा करायें। जिले में स्वीकृत 30 गौशालाओं में से 7 करोड़ 24 लाख रुपये व्यय कर 29 गौशालाओं का निर्माण पूरा कर लिया गया है। कलेक्टर ने स्वसहायता समूहों का प्रशिक्षण एवं अनुबंध पूरा कर सभी गौशालाओं के संचालन, संधारण की कार्यवाही कराने के निर्देश दिये।
    सांसद आदर्श ग्राम बण्डा और करौंदी के विकास कार्यों और विभागीय गतिविधियों की समीक्षा में कलेक्टर ने स्वसहायता समूह, जैविक खेती और ग्राम विकास के कार्यों को शीघ्र पूरा कर करौंदी आदर्श ग्राम का मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के साथ जनपद के सीईओ एवं कार्यपालन यंत्री को भ्रमण कर कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि स्वसहायता समूह और ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ देने आदर्श ग्रामों में प्रतिसप्ताह किसी न किसी गतिविधियों का आयोजन करते रहें।
    धान उपार्जन की समीक्षा में कलेक्टर ने कहा कि 5 महिला स्वसहायता समूहों को पहली बार धान खरीदी केन्द्र संभालने का जिम्मा दिया गया है। इन्हें आवश्यक सहयोग प्रदान कर सफलता पूर्वक खरीदी केन्द्रों का संचालन जनपद के सीईओ करायें। उल्लेखनीय है कि जिले में पहली बार संसारपुर, कारीपाथर, जुहली, गौरहा और झिरिया के 5 धान खरीदी केन्द्रों की कमान और जिम्मेदारी महिला स्वसहायता समूहों को दी गई है।
    सीएम हेल्पलाईन के प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा में कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि एल-1 स्तर के अधिकारी प्रकरणों का निराकरण करते समय संबंधित शिकायतकर्ता या आवेदक से बातचीत जरुर करें ताकि संतुष्टिपूर्ण निराकरण की संख्या बढ़ाई जा सके। उन्होने 100 दिवस, 300 दिवस से अधिक लंबित शिकायतों को प्राथमिकता से निराकृत करने के निर्देश दिये। लोक सेवा गारंटी समय सीमा बाह्य प्रकरणों के 103 प्रकरणों में अधिकारियों पर जुर्माना लगाया गया है, जिनमें 35 प्रकरणों में ही जुर्माना राशि जमा की गई है। शेष 77 प्रकरणों की जुर्माना राशि शीघ्र जमा कर चालान भेजने के निर्देश दिये गये। कलेक्टर श्री सिंह ने जनपद पंचायत में विभिन्न योजनाओं के तहत शेष अनुपयोगी पड़ी राशि की जानकारी जिला पंचायत को भेजने के निर्देश दिये।